मिजोरम में सत्तारुढ़ कांग्रेस ने बुधवार को आरोप लगाया है कि राज्य में विधानसभा चुनाव के बाद किसी भी कीमत पर सत्ता हथियाने के लिए भाजपा विधायकों की खरीद फरोख्त करेगी। इस परिदृश्य में निर्दलीय विधायक सबसे वल्नरबल है। हालांकि स्टेट बीजेपी ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि पार्टी कभी खरीद फरीख्त में शामिल नहीं रही है और उसका ऐसा करने का इरादा भी नहीं है। आपको बता दें कि मिजोरम में विधानसभा की 40 सीटों के लिए 28 नवंबर को चुनाव है। 11 दिसंबर को नतीजे आएंगे।

मिजोरम पूर्वोत्तर का एक मात्र राज्य है जहां कांग्रेस सत्ता में है। कांग्रेस ने जोराम पीपुल्स मूवमेंट (जेपीएम), जो सात संगठनों का संपिंडन है, पर भी हमला बोला। जेपीएम के 35 उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस प्रवक्ता लाललियानचुंगा ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि भाजपा किसी भी कीमत पर सत्ता हथियाना चाहती है और खरीद फरीख्त के दौरान निर्दलीय उम्मीदवार सबसे ज्यादा वल्नरबल होंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि अगर भाजपा दो या तीन सीटें जीतने में भी कामयाब हुई तो वह पिछले दरवाजे से सत्ता हासिल करने की कोशिश करेगी, जैसा कि उसने मेघालय और नागालैंड में किया है। मेघालय में भाजपा के सिर्फ दो विधायक हैं लेकिन वह एनपीपी के नेतृत्व वाली सरकार का हिस्सा है।

मेघालय में फरवरी में विधानसभा चुनाव हुए थे। चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला। कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभरी। उसे केन्द्र और मणिपुर में भाजपा की सहयोगी एनपीपी से कुछ सीटें ही ज्यादा मिली थी। एनपीपी ने भाजपा व अन्य दलों की मदद से सरकार बना ली। 60 सदस्यीय नागालैंड विधानसभा के लिए भी फरवरी में चुनाव हुए थे। सत्तारुढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट 27 सीटें जीतकर सबसे बड़े दल के रूप में उभरी थी। एनडीपीपी-भाजपा गठबंधन(29 सीटें) ने निर्दलीय व जदयू विधायक के समर्थन से सरकार बना ली। मिजोरम कांग्रेस ने आरोप लगाया कि त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में मिजो नेशनल फ्रंट(एमएनएफ) चुनाव बाद भाजपा से गठबंधन कर लेगी।

हालांकि दोनों दलों ने इससे इनकार किया है। मिजोरम में सत्तारुढ़ पार्टी ने अपनी निगाहें जेपीएम पर लगा रखी है जिसके उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा की राज्य ईकाई के प्रवक्ता लालरोजारा ने कहा कि खरीद फरोख्त के आरोप निराधार हैं और कांग्रेस राज्य में सत्ता विरोधी लहर का सामना कर रही है। इस कारण वह भाजपा की छवि को खराब करने की कोशिश कर रही है। लाललियानचुंगा ने आरोप लगाया कि  क्षेत्र व दिल्ली से भाजपा के कैंपेनर्स कम से कम पांच सीटें जीतने के लिए चकमा और ब्रू लोगों को लुभाने में लगे हैं।