पूर्वोत्तर राज्य असम में भाजपा ने सोमवार को नागरिकता विधेयक को लेकर संबंध तोड़ने के उसके सहयोगी दल असम गण परिषद (अगप) के फैसले पर दुख जताया और कहा कि क्षेत्रीय दल ‘कांग्रेस के जाल में फंस गया है।’


हालांकि, विपक्षी कांग्रेस ने अगप के फैसले का स्वागत किया लेकिन ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) ने भाजपा की ‘सांप्रदायिक और विभाजनकारी’ राजनीति से लड़ने के लिए अगप को साथ लेकर एकजुट मंच बनाने का प्रस्ताव रखा।


भाजपा प्रवक्ता रूपम गोस्वामी ने कहा, ‘हमें आधिकारिक रूप से जानकारी नहीं मिली है। अगप के साथ गठबंधन हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष (अमित शाह) ने किया था इसलिए मुझे लगता है कि केवल उन्हें बताया जाएगा।’   


गोस्वामी ने कहा, ‘हम टीवी पर इसे देखकर निश्चित रूप से दुखी हैं क्योंकि हम नहीं चाहते कि वे गठबंधन छोड़कर जाएं। हमें संकेत मिले हैं कि वे कांग्रेस के जाल में फंस गए हैं।’