देश के अन्य शहरों की तरह गुवाहाटी में भी बढ़ते वायु प्रदूषण को नियंत्रण करना बेहद जरूरी है। इसका मुख्य कारण वाहनों से निकलने वाला धुआं है। अगर महानगर की जनता चाहे तो दिल्ली की तर्ज पर गुवाहाटी में भी आॅड-इवन व्यवस्था को पुलिस लागू करने को तैयार है। यह बात गुवाहाटी के पुलिस आयुक्त दीपक कुमार ने कही। आप को बता दे की केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में आॅड-इवन नियम को लागू किया था।

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर पानबाजार स्थित इंस्ट्यूट आॅफ इंजीनियर्स के सभागार में अरण्यक नामक संस्था की ओर से वायु प्रदूषण पर आयोजित सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित कुमार ने कहा कि गुवाहाटी में वाहनों की संख्य दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। रास्ते संकरे व सीमित होने के चलते ट्रैफिक जाम व वायु प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रही हैं। उपर से बाहरी जिलों व राज्यों से आने वाले वाहन भी वायु प्रदूषण में वृद्धि कर रहे हैं।


ऐसे में वायु प्रदूषण को लेकर महानगर की जनता का जागरूक होना बेहद जरूरी है। कुमार ने कहा कि जनता चाहे तो दिल्ली पुलिस की तर्ज पर महानगर में यातायात की व्यवस्था 'आॅड-इवन' कर सकती है। इसके लिए जनता का समर्थन होना जरूरी है। साथ ही उन्होंने कहा कि सड़कों पर ड्यूटी करने वाले यातायात पुलिसकर्मियों को बढ़ते वायु प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए मास्क की व्यवस्था की जाएगी।

कार्यक्रम में अरण्यक संस्था की ओर से डाॅ.पार्थ ज्योति दास ने पावर प्वाईंट प्रजेंटेशन के जरिए बढ़ते वायु प्रदूषण होने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वायु प्रदूषण होने के कई मुख्य कारण हैं, जैसे कि ईंट-भट्टा उद्योग, टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन करना तथा वाहनों की बढ़ती संख्या इसका मुख्य कारण है। कार्यक्रम में पुलिस सुरक्षा बल सहित आम लोगों ने हिस्सा लिया।