असम के वित्त मंत्री हेमंता बिस्वा सरमा पर वित्तीय और आपराधिक मामलों में संलिप्त रहने का आरोप लगाने को लेकर बीजेपी विधायक पीजूष हजारिका ने असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई के खिलाफ मंगलवार (20 मार्च) को एक पुलिस शिकायत दर्ज कराई है।


दरअसल, गोगोई ने कथित तौर पर आरोप लगाया था कि उनके कैबिनेट में मंत्री रहने के दौरान शर्मा कई वित्तीय और आपराधिक मामलों में संलिप्त रहे थे। इस पूरे मामले की पुष्टि सहायक पुलिस आयुक्त (दिसपुर) सुजीत सैकिया ने की है। उन्होंने बताया कि अब तक कोई हेमंता के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया है। प्राथमिकी दर्ज करने से पहले इसे (शिकायत) जांच के लिए रखा गया है।

शिकायत दर्ज होने के बाद पीजूष हजारिका ने संवाददाताओं से कहा, 'गोगोई ने कहा है कि शर्मा ने अनियमितता बरती, जो 15 साल कांग्रेस सरकार में थे अब जाकर यदि ऐसा आरोप लगाया गया है। तो इसका मतलब है कि गोगोई भी दोषी हैं और उन्होंने अपने संवैधानिक दायित्वों का निवर्हन नहीं किया' गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली में संवाददाता सम्मेलन में कथित तौर पर कहा था कि उन्होंने कई मौकों पर बीजेपी विधायक को बचाया था।


गोगोई ने यह आरोप भी लगाया था कि शर्मा टाडा मामले से बचने के लिए आसू से कांग्रेस में शामिल हुए थे और बाद में सारदा पोंजी मामला और लुईस बर्जर रिश्वत मामले से मुक्त होने के लिए बीजेपी में शामिल हो गए। पूर्व मुख्यमंत्री ने कथित तौर पर यह भी दावा किया था कि उन्होंने1000 करोड़ रूपये के नार्थ कछार हिल घोटाला में शर्मा की संलिप्तता को नजरअंदाज किया।