गुवाहाटी। अमिनुल हक लश्कर एकमत से असम विधानसभा के डिप्टी स्पीकर चुने गए हैं। अमिनुल हक असम में भाजपा के एक मात्र मुस्लिम विधायक हैं। डिप्टी स्पीकर का पद 2 जून से खाली था। कृपानाथ मल्ला करीमगंज लोकसभा सीट से सांसद चुने गए थे। इसके बाद से यह पद खाली था। 

भाजपा के टिकट पर लश्कर ने लड़ा था विधानसभा चुनाव

लश्कर कछार जिले की सोनई विधानसभा सीट से विधायक हैं। 2016 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था। आपको बता दें कि पिछले माह अनिमुल को बांग्ला भाषा में लाल स्याही से लिखा एक धमकी भरा खत मिला था। इसमें उन्हें अपना पद छोडऩे के लिए कहा गया था। पत्र के साथ ही उन्हें .32 पिस्टल की दो गोलियां भी भेजी गई थी। लश्कर का जन्म 8 मई 1966 को हुआ था। 2016 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और एआईयूडीएफ के टिकट पर 29 मुस्लिम विधायक चुने गए थे। इनमें से 15 ने कांग्रेस के टिकट पर जबिक 13 ने एआईयूडीएफ के टिकट पर चुनाव लड़ा था। 

मुस्लिम बहुल सीट से चुनाव जीतकर आए थे लश्कर

सोनई विधानसभा सीट मुस्लिम बहुल है। अनिमुल हक लश्कर ने विरोधी अनामुल हक को 5, 549 वोटों से हराया था। लश्कर को कुल 42,206 वोट मिले थे जबकि उनके विरोधी को 36, 657 वोट मिले थे। सोनई विधानसभा क्षेत्र में कुल एक लाख 58 हजार वोटर हैं। इनमें से 98 हजार मुस्लिम मतदाता हैं। लश्कर पहले सरकारी ठेकेदार थे। वह मूलत: बंगाली हैं। उनके विधानसभा क्षेत्र में जो मुस्लिम मतदाता हैं उनमें से 95 फीसदी बंगाली बोलते हैं। लश्कर ने राजनीति की शुरुआत छात्र जीवन से की थी। वह कांग्रेस की स्टूडेंट विंग एनएसयूआई से जुड़े हुए थे। बाद में वह ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन में शामिल हुए। बाद में असम गण परिषद होते हुए भाजपा में आए।