हमारा देश कोर्इ धर्मशाला नहीं है, जहां कोर्इ भी कहीं से भी अाकर बस जाए। जो व्यक्ति भारतीय नहीं है, वह गैरकानूनी है आैर उसे भारतीय नागरिकता पाने का अधिकार नहीं है। मंगलवार की शाम जिला उपायुक्त आॅफिस में प्रेस कॉनफेरेन्स के दौरान यह बातें असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने कही। हिंदू बाग्लादेशी के बारे में पूछे जाने पर राज्यपाल ने कहा कि विदेशी तो विदेशी हैं। साथ ही उन्हाेंने कहा कि रजिस्टर आॅफ सिटिजन (एनआरसी) का काम पूरी गति से चल रहा है। 31 दिसंबर तक इसका प्रारूप तैयार हो जायेगा आैर सभी अवैध विदेशियों के नाम हटायें जायेंगे।

इसके अलावा मुखी ने पीएम मादी के स्वच्छता अभियान पर जोर देते हुए कहा कि मैंने जिला उपायुक्त को आदेश दिया है कि हर महीने की 7 तारीख को जिले के सभी स्कूलों, सराकरी आॅफिस आैर सभी प्रतिष्ठानों के कार्मचारियों आैर अधिकारियों को अपने आॅफिस में प्रवेश करने से पहले एक घंटे अपने आॅफिस के परिसर की अपने हाथों से सफार्इ करनी होगी। राज्यपाल ने कहा कि स्वच्छता अभियान एक मिशन है, देश के सभी नागरिक को इसे अपनाना होगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हमें मिलकर विकास का काम करना होगा।

उन्होंने असम के तेजपुर में 15 से 19 दिसंबर तक आयोजित व्यापार मेंले की तारीफ की।  साथ ही उन्होंने लघु उद्याेग भारती आैर चैंबर आॅफ कार्मस की तारीफ की आैर विकास के लिए कुटीर आैर लघु उद्योगों की आवश्यकता की भी बात कही। उन्होंने कहा कि मारुति वाले खुद से कार नहीं बनाते है स बल्कि उसके कल पुर्जें को बहुत से मझाेंले उद्योगों से बनवाकर कार असेंबल करते हैं।