मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ टिप्पणी करने वाले बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडे को निलंबित कर दिया गया। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने इसकी जानकारी NBT को दी है। बता दें कि नीतीश कुमार पर टिप्पणी करने के बाद टुन्ना पांडे ने शहाबुद्दीन के परिवार वालों से मुलाकात की थी। उसके बाद बीजेपी की अनुशासन समिति की तरफ से उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। फिर गुरुवार को बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और बेतिया सांसद डॉक्टर संजय जायसवाल ने उन्हें निलंबित कर दिया।

चेतावनी के बाद टुन्ना जी पांडेय ने अपने बागी तेवर और कड़े कर लिए थे। इसके बाद तो बुधवार को वो पूर्व बाहुबली सांसद और राजद (RJD) के कद्दावर नेता रहे शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से भी मिलने चले गए। उन्होंने इसकी फोटो तक खिंचवाई और मीडिया में दे दी। ओसामा से मुलाकात के बाद ही ये तय हो गया था कि टुन्ना और बीजेपी में अब आर-पार की लड़ाई शुरू हो चुकी है।

बीजेपी एमएलसी ने कहा कि 'नीतीश कुमार वाकई में परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं। अपनी बात को साबित करने के लिए उन्होंने तर्क भी पेश किया। बीजेपी विधान पार्षद ने कहा कि शहाबुद्दीन ने गलत थोड़े कहा था कि नीतीश कुमार परिस्थितियों के सीएम हैं। पिछली दफा दूसरे नंबर की पार्टी के नेता थे फिर भी मुख्यमंत्री बने। इस बार तीसरे नंबर पर ठेला गये फिर भी मुख्यमंत्री बने।'

टुन्ना ने आगे कहा कि 'वे मुख्यमंत्री बनने की क्षमता रखते हैं क्या? चुनाव लड़कर विधायक बने हैं क्या? वे भाग्यशाली हैं कि तीसरे नंबर पर जाने के बाद भी मुख्यमंत्री हैं। ऐसे में क्या कहा जाए? क्या वे परिस्थितियों के मुख्यमंत्री नहीं हैं? बीजेपी विधान पार्षद ने कहा कि हमने सही बात कही है। सच्ची बात मुंह से निकल गई लेकिन अब डर लगने लगा है। डर इसलिए कि कहीं शहाबुद्दीन वाला हाल न हो जाए। शहाबुद्दीन ने भी नीतीश कुमार को परिस्थियों का मुख्यमंत्री कहा था। उसके बाद क्या हाल हुआ यह पूरा बिहार जान रहा है। टुन्ना पांडेय ने कहा कि हमने जो भी कहा वो सही कहा। हमारे नेता नीतीश कुमार नहीं हैं, मुख्यमंत्री हैं। वे पूरे बिहार के मुख्यमंत्री हैं।'