असम प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष आैर पूर्व सांसद द्विजेन शर्मा ने गुरूवार को जिला कांग्रेस कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन को आयोजन कर राफेल समझौते में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मनमानी आैर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है।

उन्हाेंने कहा कि यूपीए सरकार के समय राफेल समझौता फ्रांस की द साॅल्ट एविएशन के साथ किया गया था। जिसमें देश को बाहरी अाक्रमणों से बचाने के लिए 126 लड़ाकू विमान खरीदने की बात थी आैर प्रत्येक जेट की कीमत 526.10 करोड़ रुपए थी। लेकिन भाजपा सरकार के आने के बाद मोदी ने केवल 36 विमानों की खरीद पर राजी हुए आैर वह भी कहीं ज्यादा कीमत पर।

उन्होंने कहा कि इस मामले में रक्षा मंत्रालय से व्यापक रूप से बातचीत भी नहीं की आैर न ही इस संदर्भ में कोर्इ टेंडर की घोषण की गर्इ। पूर्व कांग्रेसी सांसद शर्मा ने कहा कि लड़ाकू विमान बनाने आैर क्रय करने के मामले में जानकारी नहीं रखने वाले रिलायंस के मालिक अनिल अंबानी को लड़ाकू विमान के खरीद का ठेका दिया जाना देश की सुरक्षा पर सवाल खड़ा हो गया है। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में देश भर के साथ-साथ नगांव में भी आगामी 18 सितंबर  को कांग्रेस धरना देने का काम करेगी।