समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार में संवैधानिक संस्थाओं की विश्वसनीयता को कमजोर किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने सत्ता के बलबूते सरकारी मशीनरी को अपना चुनावी एजेण्ट बना लिया है। जनमत का दुरुपयोग कर उसने लोकतंत्र की पारदर्शिता को संदिग्ध कर दिया है। वर्ष 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव देश बचाने का है। संवैधानिक अधिकारों पर हो रहे हमलों से गहरी निराशा फैल रही है। 

इन हालात में जनता का भरोसा समाजवादी पार्टी पर ही बढ़ रहा है। यादव ने कहा कि सरकार लोक-लाज और भरोसे से चलती है। निर्वाचित सरकारों को जवाबदेह होना चाहिए। लेकिन भाजपा सरकार इस जिम्मेदारी से बचने की कोशिश करती है। सरकार की जिम्मेदारी के प्रति उसकी उदासीनता जग जाहिर है। अच्छे दिन के नाम पर जनता को गुमराह करना ही भाजपा की नीति है। उन्होंने कहा कि सरकारी एजेंसियों का दुरूपयोग कर विपक्षी दलों के नेताओं को अपमानित करने का षडय़ंत्र भाजपा सरकार के इशारे पर लगातार किया जा रहा है। 

हाल ही में सम्पन्न हुए पंचायत चुनावों में पुलिस-प्रशासन द्वारा जिस प्रकार का उत्पीडऩ हुआ है वह लोकतंत्र के लिए खतरा है। चुनावी प्रक्रिया में निर्वाचन आयोग की भूमिका सरकार की पिछलग्गू तक सीमित होती जा रही है। यह अनुचित है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि राजनीति की पवित्रता को भाजपा ने प्रभावित किया है। समाजवादी आंदोलन ने हमेशा अन्याय के खिलाफ डट कर मोर्चा लिया है। समाज के आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति को प्रतिनिधित्व और अधिकार दिलाने में समाजवादी सबसे आगे हैं। 

देश और प्रदेश में अधिनायक शाही ताकतों को कमजोर करने के लिए समाजवादी नीतियां ही कारगर हैं। ऐसे में उनकी पार्टी को सशक्त कर ही प्रदेश में खुशहाली और तरक्की लायी जा सकती है। यादव ने कहा कि भाजपा लोकतंत्र को हराने की साजिश में लगी है लेकिन अब जनता ने तय कर लिया है कि इस बार चुनाव वह भाजपा को हरा कर ही दम लेगी। भाजपा की सरकार ने जनता को धोखा दिया है। भाजपा चालाकी की रणनीति से राजनीति के विरूद्ध साजिश कर रही है। अगले साल प्रदेश में समाजवादी सरकार बनने पर राज्य का विकास और जनाकांक्षाओं को पूरा किया जाएगा। समाजवादी सरकार में जनता को निराश नहीं होना पड़ेगा। वर्ष 2022 का विधानसभा चुनाव जनता बनाम भाजपा के बीच होगा। उन्होंने दावा किया इस चुनाव में भाजपा की हार और समाजवादी पार्टी की जीत सुनिश्चित है।