पश्चिम बंगाल (West Bengal) की चार विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनाव को लेकर नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि से ठीक एक दिन पहले गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने अपने चारों उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी। 

भाजपा (BJP) के अशोक मंडल उत्तर बंगाल के कूचबिहार जिले में दिनहाटा विधानसभा सीट के लिए अपना नामांकन दाखिल करेंगे। इसके अलावा इसी पार्टी के निरंजन विश्वास नादिया के शांतिपुर से, दक्षिण 24 परगना में गोसाबा से पलाश राणा और उत्तर 24 परगना के खरदाहा से जॉय साहा चुनावी जंग के मैदान में उतरेंगे। 

इससे पहले माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी नीत वाम मोर्चा ने पहले ही उक्त सीटों से अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है। वाम मोर्चा की सहायक फॉरवर्ड ब्लॉक के उम्मीदवार अब्दुर रऊफ दिनहाटा से, आरएसपी उम्मीदवार अनिल चंद्र मंडल गोसाबा से, माकपा के सुमेन महतो और देवज्योति दास क्रमश: शांतिपुर और खारदाह से चुनाव लड़ेंगे। 

एक से आठ अक्टूबर के बीच उम्मीदवार नामांकन पत्र दाखिल कर सकेंगे। नामांकन पत्रों को वापस लेने की अंतिम तिथि 13 अक्टूबर तक है। इन सभी विधानसभा उप-चुनावों की मतगणना दो नवंबर को होगी। राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने तीन अक्टूबर को उप-चुनाव के लिए अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी थी। राज्य त्रिणमूल कांग्रेस ने तीन अक्टूबर को उप-चुनाव के लिए इस पार्टी से उम्मीदवारों के नाम दिए। 

दिनहाटा से उदयन गुहा, शांतिपुर से ब्रजकिशोर गोस्वामी, खारधाहा से चट्टोपाध्याय और गोसाबा से सुब्राता मंडोल को उप-चुनाव के लिए तृणमूल ने अपने उम्मीदवार की घोषणा की है। भाजपा से निर्वाचित सांसद निशित प्रमाणिक और जगन्नाथ सरकार के इस्तीफा देने के बाद से दिनहाटा और शांतिपुर की सीटें खाली पड़ी हैं। कोविड-19 संक्रमण के कारण मई में तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी काजल सिन्हा और गोसाबा के गोविंद नासकर की मौत हो गई थी, तब से खारदाहा और गोसाबा की सीटें खाली पड़ी थीं। 

तृणमूल कांग्रेस ने हाल ही में संपन्न उप-चुनाव में तीन विधानसभा भवानीपुर, जांगीपुर और शमशेरगंज की सीटें जीतकर खुशी का व्यक्त की है। भवानीपुर से मुख्यमंत्री एवं तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी ने 58,000 के भारी मतों के अंतर से जीत हासिल कर न केवल जीत की तिकड़ी बनायी है बल्कि अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी को भी अपने पास रखने में भी कामयाब रही हैं।