भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने दोहराया कि पार्टी अगले साल फरवरी में त्रिपुरा विधानसभा चुनावों में वाम मोर्चा सरकार को हटाने के लिए व्यवस्थित तरीके से काम कर रही है। 

राम माधव ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी के प्रदेश नेताओं के साथ यहां बैठक के बाद कहा कि चुनाव में अपनी हार की आशंका को लेकर माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) विपक्षी समर्थकों के विरुद्ध आतंक की रणनीति अपना रखी है। इसके कारण राज्य की कानून और व्यवस्था की स्थिति में भी गिरावट आई है। 

उन्होंने यहां मीडिया से बातचीत में कहा, माकपा के नेता जिस प्रकार कॉलेज के काउंसिल के चुनाव में शामिल रहे और पूरे राज्य में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के समर्थकों पर हो रहे हमलों से हमें लगता है कि माकपा ने लोकतंत्र और लोगों का सम्मान करना छोड़ दिया है। वे कभी भी विपक्ष की मौजूदगी को स्वीकार नहीं कर सकते जो कि भारतीय व्यवस्था में अति महतवपूर्ण है।

राम माधव ने माकपा को चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा सत्ता में हिंसा की राजनीति को अनुमति नहीं देगी और राज्य में कानून का शासन स्थापित करेगी। उन्होंने कहा कि वे केंद्र सरकार से राज्य में शांतिपूर्ण स्थिति सुनिश्चित करने और त्रिपुरा में लोकतांत्रिक माहौल बहाल करने का अनुरोध करेंगे।