उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव (uttarakhand election) से पहले नेताओं BJP सरकार को तगड़ा झटका लगा है क्योंकि कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य कांग्रेस (yashpal arya joins congress) में शामिल हो गए हैं। प्रदेश की राजनीति में दलितों का बड़ा चेहरा माने जाने वाले कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य के साथ-साथ उनके बेटे विधायक संजीव आर्य ने भी कांग्रेस ज्वाइन कर ली है।

यह भी पढ़ें— अब आसानी से पढ़ सकते हैं WhatsApp पर डिलीट किए मैसेज, ये है आसान तरीका


आपको बता दें कि 5 साल बाद यशपाल आर्य की फिर से कांग्रेस (congress party) में वापसी हुई है। यशपाल कांग्रेस के उन 9 विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने 2016 में कांग्रेस छोड़ बीजेपी ज्वाइन कर ली थी। इसके बदले भाजपा ने यशपाल आर्य को कैबिनेट मंत्री बनाया, तो उनके बेटे संजीव आर्य को भी विधानसभा चुनाव का टिकट दिया गया। लेकिन चुनाव से ठीक पहले यशपाल ने भाजपा को झटका दिया है।

उत्तराखंड बनने पर साल 2002 के आम चुनाव में उत्तराखंड विधानसभा (uttarakhan election) के सदस्य निर्वाचित हुए थे। साल 2007 के आम चुनाव में उत्तराखंड विधानसभा के पुनः सदस्य निर्वाचित हुए। इस दौरान कांग्रेस कार्यकाल में 2002 से 07 के बीच यशपाल आर्य विधानसभा अध्यक्ष भी रहे। आर्य पूर्व में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं।