महाराष्ट्र नगर पंचायत चुनाव के नतीजे बुधवार को घोषित किये गए जिसमें भारतीय जनता पार्टी 1,649 सीटों में से 384 सीटों पर विजय प्राप्त कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है. इससे पहले बुधवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने दावा किया था कि उनकी पार्टी राज्य में सबसे बड़ी राजनीतिक ताकत के रूप में उभरी है और 24 नगर पंचायत का नेतृत्व कर सकती है.

राज्य निर्वाचन आयोग ने बुधवार शाम को नतीजों की घोषणा की जिसमें BJP को 384 और राकांपा को 344 सीटों पर जीत मिली है. एसईसी के आंकड़ों के अनुसार, कांग्रेस ने 316 सीटें जीती हैं जबकि शिवसेना को केवल 284 सीटों पर जीत हासिल हुई है. हाल में हुए पंचायत चुनाव में 206 निर्दलीय उम्मीदवार विजयी हुए हैं.

 

एसईसी ने कहा कि गढ़चिरौली जिले के नौ नगर पंचायत में मतगणना बृहस्पतिवार को होगी. इससे पहले आज पाटिल ने संवाददाताओं से कहा था, राज्य की 106 नगर पंचायत के लिए चुनाव हुए थे जिसमें अब तक बीजेपी ने 400 से ज्यादा सीटें जीती हैं. हम 24 निकाय संस्थाओं का नेतृत्व करने की मजबूत हालत में हैं और छह अन्य में दावा करने के लिए हमें कुछ पार्षदों का समर्थन चाहिए होगा.

पाटिल ने कहा कि लगभग 26 महीने तक सत्ता से बाहर रहने के बावजूद, भाजपा को भारी जीत हासिल हुई है. उन्होंने कहा, “इससे पता चलता है कि पार्टी कार्यकर्ताओं और स्थानीय नेताओं का हमारा नेटवर्क, बिना किसी सरकार के समर्थन या संसाधन के अच्छे नतीजे दे सकता है. शिवसेना को मुख्यमंत्री का पद मिल गया लेकिन वह इस चुनाव में तीसरे या चौथे स्थान के लिए संघर्ष कर रही है.”

 

महाराष्ट्र में कांग्रेस ने बुधवार को लातूर जिले की चार नगर पंचायतों की 68 में से 23 सीट पर जीत दर्ज की, जबकि राकांपा और भाजपा को 14-14 सीट मिलीं. यह जानकारी चुनाव अधिकारियों ने दी. लातूर जिले में चार नगर पंचायतों की 68 सीट के लिए चुनाव हुआ था. हर नगर पंचायत में 17 सीट थीं. चाकुर, शिरूर अनंतपाल और जलकोट और देवनी नगर पंचायत के लिए मतगणना बुधवार को हुई. जलकोट और देवनी में कांग्रेस ने अधिकतर सीट जीत लीं. अधिकारियों ने बताया कि चाकुर की 17 में से आठ सीट महाविकास अघाडी (कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना) ने जीतीं, जबकि प्रहार जनशक्ति पक्ष ने छह और भाजपा ने तीन सीट जीतीं.