भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नगालैंड विधानसभा का चुनाव नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक पीपुल्स पार्टी (एनडीपीपी) के मिलकर लड़ेगी। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने आज जारी बयान में कहा कि नगालैंड विधानसभा चुनाव के लिए पूर्व मुख्यमंत्री नेफियू रियो की अगुवाई वाले एनडीपीपी से गठबंधन किया गया है।


इससे पहले भाजपा का नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के साथ 15 साल से गठबंधन था। गठनबंधन का फैसला कल यहां भाजपा अध्यक्ष और रियो की बैठक में लिया गया। बैठक में भाजपा की नगालैंड इकाई के अध्यक्ष विसासोली लोहुंगू भी मौजूद थे। 60 सदस्यीय नगालैंड विधानसभा के लिए 27 फरवरी को मतदान होगा और तीन मार्च को चुनाव परिणाम घोषित किए जायेंगे। वर्तमान नगालैंड विधानसभा का कार्यकाल 13 मार्च तक है।


बता दें कि नगालैंड में नगा जनजातीयों ने चुनावों का बहिष्कार किया है। इसे लेकर सभी दलों द्वारा हस्ताक्षरित साझा घोषणा पत्र भी जारी किया गया था। हालांकि भाजपा ने घोषणा की है कि वह नगालैंड विधानसभा चुनाव में हिस्सा लेगी। पार्टी की राज्य इकाई के मीडिया प्रकोष्ठ के संयोजक के जेम्स विजो ने बताया था कि राज्य इकाई के अध्यक्ष विसासोली लहोनुगु के नेतृत्व में भाजपा नागालैंड के एक प्रतिनिधिमंडल ने पार्टी के महासचिव एवं पूर्वोत्तर चुनाव मामलों के प्रभारी राम माधव से नई दिल्ली में मुलाकात की। उन्होंने कहा कि भाजपा आलाकमान ने नागालैंड चुनाव से संबंधित मामलों के समाधान और चर्चा के लिए महासचिव को अधिकृत किया था। विस्तृत विचार-विमर्श के बाद उन्होंने कहा कि इस बात पर सहमति बनी है कि भाजपा तय कार्यक्रम के अनुसार राज्य में समाधान के लिए चुनाव लड़ेगी।


बता दें कि 29 जनवरी को राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दोनों पार्टियों समेत सभी राजनीतिक दलों द्वारा हस्ताक्षरित एक साझा घोषणा पत्र के जारी होने के तीन दिन बाद भाजपा ने चुनाव लडऩे का फैसला किया है। इस घोषणा पत्र पर भाजपा की राज्य इकाई के कार्यकारी परिषद के सदस्य खेतो सेमा ने हस्ताक्षर किए थे, लेकिन भाजपा ने इसके अगले दिन ही इससे पीछे हटते हुए कहा था कि चुनाव पर अंतिम निर्णय उसके केन्द्रीय नेता लेंगे।