नागालैंड के मुख्यमंत्री के फैसले से पूरे उत्तर पूर्वी भारत में भाजपा को जोरदार झटका दे दिया है।नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने राजग में होते हुए भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना समर्थन देने की घोषणा कर दी है। इस घोषणा के बाद पूरी राजनीति ही बदली बदली नजर आने लगी है।

एक गोपनीय पत्र के बाहर आने की वजह से इस बात का खुलासा हो गया है। जिसके बाद लोग मुख्यमंत्री से इस पत्र की पुष्टि करने की कोशिश कर रहे हैं। नागालैंड में रियो ने समान विचारधारा वाले दलों को मिलाकर नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव एलायंस का गठन किया था। इस गठबंधन को अक्टूबर 2017 में बनाया गया था। बाद में यह गठबंधन भाजपा के नार्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस में शामिल हो गया था।इस गठबंधन को भाजपा ने सिर्फ उत्तर पूर्व के लिए ही बनाया है।

गठबंधन में शामिल होने के बाद भी मुख्यमंत्री ने राहुल गांधी को यह गोपनीय पत्र लिखा है। इस पत्र में यह बताया गया है कि वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को वर्तमान चुनाव में अपना समर्थन देते हैं। इस चुनाव में अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनती है तब भी उनका यह समर्थन जारी रहेगा। राजनीति के जानकार यह मान रहे हैं कि रियो के पत्र से उत्तर पूर्व की बदलती हवा का रुख समझा जा सकता है।इसका दूसरा अर्थ यह भी है कि इन राज्यों में भाजपा बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं करने जा रही है। 

उन्होंने अपने पत्र में यह भी स्पष्ट कर दिया है कि उनकी सरकार को अब विपक्ष में रहे सात अन्य विधायकों का समर्थन भी हासिल है। पत्र में भाजपा के प्रति स्थानीय लोगों के नजरिए के बारे में भी उल्लेख किया गया है और कहा गया है कि स्थानीय नागरिक अपने कारणों से इस पार्टी से जुड़ना पसंद नहीं करते हैं। साथ ही भाजपा द्वारा प्रस्तावित नागरिकता संशोधन कानून की मदद से दूसरे देशों से आये हिंदुओं को यहां बसने की छूट देने का प्रस्ताव भी यहां के कई राज्यों के लोगों को नागवार लग रहा है। इसी वजह से वह अपना समर्थन राहुल गांधी को देना चाहते हैं।