भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP nadda) ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति का पुनर्गठन कर दिया है। गुरुवार को पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह (arun singh) ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा गठित नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की लिस्ट को जारी किया। बीजेपी सांसद वरुण गांधी (varun gandhi) और उनकी मां मेनका गांधी (Maneka Gandhi) को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर किया गया। वहीं, कांग्रेस से बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल किया गया है।

भाजपा की नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM modi) , भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani), मुरली मनोहर जोशी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी समेत 80 नेताओं को मनोनीत किया गया है। इन 80 नेताओं के अलावा पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति में विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर 50 और स्थायी आमंत्रित सदस्य ( पदेन) के तौर पर 179 नेताओं को शामिल किया गया है जिनमें पार्टी के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, विभिन्न विधान सभा एवं विधान परिषद में विधायक दल के नेता, पूर्व उप मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता, राष्ट्रीय मोर्चा अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी, प्रदेश सह प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेशों के संगठन महासचिव शामिल हैं।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP President JP Nadda) ने इसी के साथ अपनी राष्ट्रीय टीम के पदाधिकारियों के नाम का भी ऐलान कर दिया है। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया समेत 13 नेताओं को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। सौदान सिंह को भी इस बार संगठन में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। एक व्यक्ति एक पद के फॉमूर्ले को अपनाते हुए केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव को इस बार राष्ट्रीय पदाधिकारी नहीं बनाया गया है। भूपेंद्र यादव के अलावा पिछली टीम में शामिल सभी महासचिवों को नई टीम में भी महासचिव के तौर पर जगह दी गई है।

बी एल संतोष को एक बार फिर से राष्ट्रीय महासचिव - संगठन की जिम्मेदारी दी गई है, हालांकि चौंकाने वाला फैसला करते हुए इस बार जेपी नड्डा ने एक ही व्यक्ति ( शिवप्रकाश ) को सह संगठन महासचिव की जिम्मेदारी दी है। वी सतीश को इस बार संगठक बनाया गया है। भाजपा अध्यक्ष ने अपनी नई टीम में 11 सचिव और 23 राष्ट्रीय प्रवक्ताओं के नाम की भी घोषणा की है। इसके साथ ही पार्टी के विभिन्न मोर्चों के अध्यक्षों के नाम की भी घोषणा की गई है, जिसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।