बिहार में दरभंगा जिले के जाले थाना क्षेत्र में एक लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में गिरफ्तार चार युवकों की मेडिकल जांच करने को लेकर पुलिसकर्मियों के कथित दुर्व्यवहार से क्षुब्ध जाले प्रखंड के सभी चिकित्सक हड़ताल पर चले गये हैं। पुलिस सूत्रों ने आज यहां बताया कि सामूहिक दुष्कर्म का एक वीडियो वायरल होने का मामला संज्ञान में आने के बाद जाले थाना क्षेत्र के विभिन्न ठिकानों में छापेमारी कर चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। 

वहीं, पांचवें आरोपी की गिरफ्तारी के लिए भी कई जगहों पर छापेमारी की गयी है। इस बीच गिरफ्तार अभियुक्तों को मेडिकल जांच के लिए आज सुबह जाले रेफरल अस्पताल लाया गया। चिकित्सकों ने कोरोना संक्रमण का हवाला देते हुए पुलिस दल को अभियुक्तों को मास्क लगा कर लाने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने का आग्रह किया। इस बात पर चिकित्सकों और पुलिसकर्मियों के बीच बहस हो गयी। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने कथित तौर पर ड्यूटी पर मौजूद चिकित्सक डॉ. रामप्रीत राम के साथ धक्का-मुक्की की। 

इस बात से नाराज अस्पताल के चिकित्सक समेत पूरे प्रखंड के विभिन्न प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक हड़ताल पर चले गये है। चिकित्सकों ने आरोपित पुलिसकर्मियों को तत्काल निलंबित करने की मांग को लेकर संबंधित थाने में एक आवेदन भी दिया है। चिकित्सकों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के बावजूद वे अपने कर्तव्य का निष्ठापूर्वक पालन कर रहे हैं लेकिन इस तरह का व्यवहार असहनीय है। इस बीच वरीय पुलिस अधीक्षक बाबू राम का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। संबंधित पुलिस पदाधिकारी के विरुद्ध अनुशासनिक करवाई की जाएगी। दोनों पक्ष यदि कानूनी करवाई के लिए आवेदन देते हैं तो कानूनी करवाई कर जांच प्रतिवेदन न्यायालय में समर्पित किया जायेगा। इसके साथ ही पुलिस पदाधिकारी की दरभंगा चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल में मनोचिकित्सक से भी कॉउंसलिंग कराई जाएगी। उल्लेखनीय है कि सामूहिक दुष्कर्म का मामला 26 अप्रैल का बताया जा रहा है। जाले थाना क्षेत्र में गांव के ही पांच युवकों ने लडक़ी का अपहरण कर लिया और पास के बगीचे में ले जा कर सामूहिक (बलात्कार) दुष्कर्म किया।