भारत निर्वाचन आयोग की एक उच्चस्तरीय टीम दिवसीय दौरे पर पटना पहुंची और बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा बैठक की। टीम ने मुजफ्फरपुर और पटना में कई जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक की और तैयारियों की जानकारी ली। मुजफ्फरपुर में भारत निर्वाचन आयोग के उपनिर्वाचन आयुक्त चंद्र भूषण कुमार, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बिहार एच$ आर. श्रीनिवास, शरद चंद्र भारतीय सूचना सेवा, पंकज श्रीवास्तव निदेशक-व्यय (राजस्व सेवा) के द्वारा विधानसभा चुनाव के मद्देनजर की जा रही तैयारियों की समीक्षा की गई।

बैठक में तिरहुत, कोसी और दरभंगा प्रमंडल के सभी 12 जिलों के सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस महानिदेषक (मुख्यालय) जितेंद्र कुमार के साथ तीनों प्रमंडल के प्रमंडलीय आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक उपस्थित थे। बैठक में विधानसभा चुनाव से जुड़े सभी बिंदुओं की समीक्षा की गई एवं आवश्यक निर्देश दिए गए। वीवीपैट, ईवीएम का एफसीएल, ईवीएम की सुरक्षा, मतदान केंद्रों, सभी बूथों पर उपलब्ध कराई जानेवाली सुविधाओं का आकलन, सहायक मतदान केंद्र, मतदाता जागरूकता कार्यक्रम सहित विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा व कार्य की प्रगति की समीक्षा की गई।

बैठक में निर्देश दिया गया कि दिव्यांग मतदाताओं की सहभागिता सौ फीसदी सुनिश्चित हो, इस बाबत प्रभावकारी कार्ययोजना का क्रियान्वयन करना सुनिश्चित की जाए। मूल मतदान केंद्र और इससे संबंधित सहायक मतदान केंद्रों की भी बारी-बारी से समीक्षा की गई। कोविड-19 के परिपेक्ष्य में मतदान केंद्रों पर क्राउड मैनेजमेंट के लिए बनाई गई योजना के बारे में सभी डीईओ से जानकारी प्राप्त की गई और निर्देश दिया गया कि आयोग के द्वारा कोविड-19 से संबंधित जारी किए गए विस्तृत दिशा-निर्देश का पालन किया जाए।

मतदान केंद्रों पर बनाए जाने वाले हेल्पडेस्क के बारे में भी निर्देश दिए गए। निर्देश दिया गया कि जिन भवनों पर बूथों की संख्या अधिक है, वहां एग्जिट एवं एंट्री प्वाइंट बनाना सुनिश्चित किया जाए। कोविड-19 को लेकर जिला स्तरीय नोडल पदाधिकारी तथा विधानसभावार नोडल पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की भी जानकारी ली गई। मतदाता जागरूकता को लेकर भी अभियान चलाने के निर्देश दिए गए। बैठक में प्रत्येक जिला से मतदाता सूची में बाहर से आने वाले प्रवासी मजदूरों के निबंधन के बारे में जिलावार जानकारी प्राप्त की गई। मुजफ्फरपुर के बाद टीम पटना पहुंची, जहां पटना प्रमंडल के सभी जिला के जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक की।