उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि आज की कांग्रेस बिहार के प्रथम सीएम डॉ श्रीकृष्ण सिंह की नहीं, लालू यादव की है। श्रीबाबू ने बिहार में जो कल-कारखाना खोले, लालू-राबड़ी सरकार में शामिल होकर राजद की पालकी ढोने वाली कांग्रेस ने उसे बंद किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फिर से उन बंद कारखानों को चालू करने में जुटे हैं। एनडीए सरकार ही श्रीबाबू का सपना साकार करेगी।
सोमवार को श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में श्रीबाबू की जयंती समारोह में उपमुख्यमंत्री ने कहा कि राजकीय समारोह में श्रीबाबू को माल्यार्पण करने एक भी कांग्रेसी सचिवालय परिसर नहीं पहुंचे। 16 साल के शासनकाल में श्रीबाबू ने बिहार को जिस मुकाम पर पहुंचाया, उनके बाद 45 वर्षों 2005 तक एक भी काम नहीं हुआ। अगर काम होता तो गुजरात और महाराष्ट्र से अधिक विकसित राज्य बिहार होता। एनडीए सरकार श्रीबाबू के सपनों को पूरा करने में लगी है।

उनके द्वारा किए गए कामों की लकीर को छूने का प्रयास कर रही है। सात हजार करोड़ से बरौनी खाद कारखाना को चालू किया जा रहा है और जून 21 से यहां से उत्पादन शुरू हो जाएगा। कांग्रेसी सांसद डॉ अखिलेश सिंह का नाम लिए बगैर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मिलर हाईस्कूल में श्रीबाबू की जयंती मनाने वाले कांग्रेसी बताएं कि क्या पाकिस्तान ने भारत से पूछकर हमला किया था।

मोदी  सरकार ने पाकिस्तान को जवाब दिया तो उसे महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव से जोड़ दिया गया। देश में हर दो-चार महीने में चुनाव होते रहते हैं तो क्या पाकिस्तान को जवाब नहीं दिया जाए। कांग्रेस में कैसे बेशर्म लोग हैं जो अनुच्छेद 370 का विरोध करते हैं, सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगते हैं। भारत रत्न की मांग पर कहा कि कांग्रेस ने अब तक क्यों नहीं उन्हें यह सम्मान दिया। श्रीबाबू के लिए भारत रत्न छोटी बात है। हम उनके सपनों का विकसित बिहार बना दें, उनके लिए वही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने श्रीबाबू को आधुनिक बिहार का निर्माता बताते हुए  पीएम मोदी से तुलना की। कहा कि दोनों के लिए औद्योगिकीकरण  प्राथमिकता में है। श्रीबाबू ने मंदिर में दलितों को प्रवेश कराया तो पीएम ने गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण दिया।

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि श्रीबाबू चाहते थे कि सरदार पटेल देश के पीएम बनें। अगर वे आज जीवित होते तो देश के सभी राज्यों में एनआरसी लागू करवाने का समर्थन करते। श्रीबाबू के बाद वाले कांग्रेसियों ने बिहार में हुए तमाम कामों को ध्वस्त कर दिया। पीएम मोदी श्रीबाबू के सपनों का देश बना रहे हैं। पाकिस्तानी सेना कहें या आतंकवादी, उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है। अध्यक्षीय भाषण में कार्यक्रम के आयोजनकर्ता पूर्व मंत्री डॉ महाचंद्र प्रसाद सिंह ने श्रीबाबू को भारत रत्न देने, उनकी जीवनी को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने, उनके नाम पर शैक्षणिक शोध संस्थान खोलने की मांग की।