बिहार में पिछले कुछ दिनों से जारी राजनीतिक जोड़-तोड़ के बीच आज एनडीए में टूट लगभग तय हो गई है। मीडिया रिपोर्ट में खबर है कि बीजेपी कोटे से 16 मंत्री इस्तीफा दे सकते हैं। खबर है कि डिप्टी सीएम तारकिशोर के घर पर बीजेपी कोटे के मंत्रियों की बैठक चल रही है। इसमें कृषि मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री से लेकर अन्य मंत्री शामिल हैं। बैठक के बाद बीजेपी कोटे के मंत्री राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप सकते हैं। इस बीच नीतीश कुमार ने दोपहर 12:00 से 12:30 के बीच राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है।


ये भी पढ़ेंः आखिरकार गिरफ्तार हुआ नोएडा का गालीबाज श्रीकांत त्यागी, पुलिस ने 3 लोगों के साथ दबोचा


वहीं मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नीत महागठबंधन के घटक और सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के विधायकों की ताजा राजनीतिक हालात को लेकर अलग-अलग बैठक हो रही है। राजद विधानमंडल दल की नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के यहां 10 सर्कुलर रोड स्थित सरकारी आवास पर मंगलवार को घटक दलों के विधानमंडल दल के सदस्यों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है । बिहार के नए सियासी हालात को लेकर यह बैठक बुलाई गई है। बैठक अब से कुछ देर बाद शुरू होनी है, जिसमें बिहार की मौजूदा राजनीतिक स्थिति को लेकर फैसला लिया जाएगा। 

ये भी पढ़ेंः खुशखबरीः लगातार सस्ता हो रहा है क्रूड ऑयल, भारी गिरावट का दौर जारी, जानिए पेट्रोल-डीजल के नए रेट


इस बैठक की बड़ी बात यह है कि किसी भी विधायक को मोबाइल फोन लेकर जाने की अनुमति नहीं है। सारे विधायकों को यह स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि वह अपना मोबाइल फोन बाहर ही छोड़ें। बैठक विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इस बैठक में जदयू को समर्थन देना है या नहीं देने पर पार्टी बड़ा फैसला ले सकती है। इससे पूर्व कल देर रात कांग्रेस के बिहार मामलों के प्रभारी भक्त चरणदास भी राबड़ी आवास गए थे, जहां उन्होंने मौजूदा राजनीतिक स्थिति को लेकर और पुराने कड़वाहट को भूलकर प्रतिपक्ष के नेता यादव के समर्थन करने की बात कही। साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि यादव के फैसले लेने की जिम्मेदारी भी सौंप दी।