श्रीनगर। कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (आईजीपी) विजय कुमार ने गुरुवार को कहा कि कश्मीर में सक्रिय आतंकवादियों की संख्या 200 से नीचे पहुंच गई है। कुमार ने बताया कि यह पहली बार है जब घाटी में आतंकवादियों की संख्या दो सौ से नीचे पहुंची है। दक्षिण कश्मीर में मुठभेड़ के दौरान जैश-ए-मोहम्मद के छह आतंकवादियों के मारे जाने के बाद बाद आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कुमार ने बताया, 'घाटी के इतिहास में यह पहली बार है कि स्थानीय आतंकवादी की संख्या 85 या 86 हैं। साथ ही मुठभेड़ की संख्या में इजाफे का यह मतलब नहीं है कि आतंकवादियों की संख्या में इजाफा हो रहा है।' 

आईजीपी ने बताया की इस वर्ष अब तक 128 स्थानीय लोग आतंकवादी संगठनों में शामिल हुए हैं। उन्होनें कहा, 'इस संख्या में से 73 मुठभेड़ में मारे गए और 16 को गिरफ्तार कर किया गया है। तकरीबन 39 सक्रिय है। इन आंकड़ों से स्पष्ट होता है कि जिन्होंने आतंकवाद का दामन थामा वह या तो मुठभेड़ में मारे गए अन्यथा गिरफ्तार कर लिए गए। सभी गुप्त सूचना नागरिकों से उपलब्ध हुई।'  

इस इस दौरान 15 काप्र्स के जनरल कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल डी पी पांडे ने कहा कि इस वर्ष किए गए अधिकतर अभियान मानवीय सूचना के आधार पर किए गए। पांडे ने कहा, 'मुझे लगता है कि हम आंकड़ें को 200 से नीचे करने पर कामयाब रहें, इसे 180 पर लाना काफी कठिन था। हमारे पास अभी भी दो दिन बाकी है। आशा करते हैं कि भविष्य में यह आंकड़ा और भी नीचे जाएंगे।'