पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में अब कई रंग देखने को मिलने लगे हैं।  7 मार्च को पीएम मोदी की कोलकाता के ब्रिगेड मैदान में रैली के पहले टीएमसी के पूर्व सांसद दिनेश त्रिवेदी ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली।  बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि दिनेश त्रिवेदी के आने से पार्टी को मजबूती मिलेगी।  उनका आना पार्टी के लिए काफी अच्छा है।  दिनेश त्रिवेदी एक परफेक्ट इंसान हैं।  वो गलत पार्टी में थे। 

बीजेपी में शामिल होने के दौरान दिनेश त्रिवेदी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि बंगाल के कल्चर से ज्यादा करप्शन की बात होती है।  बंगाल के गौरव को वापस लाने की जरूरत है।  उन्होंने बीजेपी को परिवार नहीं, कार्यकर्ताओं की पार्टी करार दिया।  बीजेपी के सोनार बांग्ला के नारे की तारीफ करते हुए दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि हम हमेशा जनता के साथ रहेंगे।  हमेशा जनता की बेहतरी के लिए काम करते रहेंगे। 

बताते चलें कि फरवरी महीने में ही बजट सत्र के दौरान राज्यसभा सांसद के पद से त्यागपत्र दे दिया था।  उनके त्यागपत्र के बाद सियासी बयानबाजी देखने को मिल रही थी।  कयास लग रहे थे कि दिनेश त्रिवेदी बीजेपी में शामिल होंगे।  आखिरकार शनिवार को दिनेश त्रिवेदी ने बीजेपी का दामन थाम लिया।  पिछले साल अप्रैल में उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता ग्रहण की थी।  त्रिवेदी ने 1980 में कांग्रेस ज्वाइन किया था।  1990 में जनता दल का दामन थाम लिया था।  1998 में जब ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस का गठन की तो त्रिवेदी भी उनके साथ खड़े थे।