पणजी. कांग्रेस के लिए मुसीबतें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. लंबे समय से कई दिग्गज नेताओं का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी है. अब इस लिस्ट में गोवा भी शामिल हो गया है और यहां पर बड़ी फूट की खबर आ रही है. कांग्रेस के 8 विधायक आज बुधवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं. कांग्रेस छोड़ने वाले दिग्गज नेताओं में दिगंबर कामत जैसे बड़े चेहरे भी शामिल हो सकते हैं.

यह भी पढ़े : अब कार की खिड़कियों पर ब्लैक फिल्म और नेट का प्रयोग प्रतिबंधित, दोनों पर लगेगा जुर्माना


गोवा राजनीति में आज बड़ी हलचल है क्योंकि कांग्रेस में बड़ी फूट के आसार दिख रहे हैं और उसके कई विधायक बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. माना जा रहा है कि कांग्रेस के 8 विधायक बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं. ये सभी 8 विधायक फिलहाल गोवा विधानसभा में मौजूद हैं.

बीजेपी की राज्य इकाई के प्रमुख सदानंद शेत तनावड़े ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि गोवा में कांग्रेस के आठ विधायक बीजेपी में शामिल होंगे. गोवा की 40 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 11 जबकि बीजेपी के 20 विधायक हैं. साल 2019 में भी इसी प्रकार कांग्रेस के 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे. पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत जैसा बड़ा चेहरा भी बीजेपी में जा सकता है. दिगंबर कामत के अलावा विपक्ष के नेता माइकल लोबो भी विधानसभा में मौजूद हैं और उनके भी कांग्रेस छोड़ने की खबर है. इस बीच गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत भी गोवा विधानसभा पहुंच गए हैं.

यह भी पढ़े : Aaj ka rashifal September 14: इन राशियों के लोग आज न लें कोई रिस्क, ये लोग लाल वस्‍तु का दान करें


कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार दिगंबर कामत गोवा में पार्टी का बड़ा चेहरा थे और वो लगातार चार बार कांग्रेस के टिकट से मडगांव सीट पर चुनाव जीतते आ रहे थे. इससे पहले कामत बीजेपी में ही थे. बीजेपी के उनके पुराने कार्यकाल को मिला लिया जाए तो वो लगातार 7 बार से मडगांव के विधायक चुने गए. अब कामत एक बार फिर से घर वापसी करते हुए बीजेपी में शामिल होने की तैयारी में हैं.

यह भी पढ़े : Kunwara Panchami 2022: आज अविवाहित पितरों का श्राद्ध करने का दिन, जानिए कुंवारा पंचमी महत्व


गोवा विधानसभा में कांग्रेस के 11 विधायक इस बार चुनकर विधानसभा पहुंचे थे. इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव से पहले भी गोवा कांग्रेस के 17 में से 15 विधायक पार्टी छोड़कर अन्य दलों में शामिल हो गए थे. और विधानसभा चुनाव आते-आते कांग्रेस के पास सिर्फ दो ही विधायक बचे रह गए थे, जिनमें से खुद एक कामत थे. इतनी बड़ी संख्या में होने वाले दलबदल के चलते कांग्रेस ने चुनावों से पहले विधायकों को दलबदल न करने की शपथ भी दिलाई थी.