अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ की सीमा पर बहने वाली सरयू नदी में नहाने गए पांच किशोरों की मौत हो गई. मृतकों में दुल्हन का सगा और चचेरा भाई भी शामिल है. एक दिन पूर्व सेराघाट के रामपुर से एक बारात गणाईगंगोली के धौलियाइजर कूना गांव गई थी. बारात लौटने पर परंपरा के तहत दुल्हन के भाई, चचेरा भाई सहित तीन अन्य युवक दुल्हन को छोडऩे के लिए दुल्हन की ससुराल रामपुर गए थे.

बुधवार सुबह रवींद्र कुमार 15 वर्ष पुत्र गोकुल राम, साहिल कुमार 15 वर्ष पुत्र पूरन राम, मोहित कुमार 17 वर्ष पुत्र अशोक कुमार, राजेश कुमार 16 वर्ष पुत्र खीम राम, पीयूष कुमार 15 वर्ष पुत्र कृष्ण कुमार निवासी धौलियाइजर गांव कूना गणाई गंगोली रामपुर से लगभग आधा किमी दूर बहने वाली सरयू नदी में नहाने चले गए. घटनास्थल से लगभग आठ किमी दूर रहने वाले इन किशोरों को नदी के बहाव और गहराई का कोई अनुभव नहीं था.

 

पांचों किशोर नदी में बने ताल में नहाने लगे और अधिक गहराई में जाने पर डूबने लगे. जिस स्थान पर किशोर नहा रहे थे वह स्थल दूर होने से लोगों की नजर में भी नहीं रहता है. इस दौरान कुछ लोगों ने किशोरों को डूबते हुए देखा. जब तक बचाने वाले पहुंचते उससे पूर्व ही किशोर नदी में डूब गए. ग्रामीणों ने इसकी सूचना सेराघाट पुलिस चौकी को दी. सूचना मिलते ही पुलिस और राजस्व टीम मौके पर पहुंची. ग्रामीणों के साथ मिल कर रेस्क्यू अभियान चलाया गया. शवों को नदी से बरामद कर लिया है.

मृतकों में एक किशोर दुल्हन का सगा भाई और एक सगा चचेरा भाई बताया जा रहा है. तीन किशोर गांव के भी दुल्हन के भाई लगते हैं. परंपरा के अनुसार शादी के बाद जब दुल्हन की विदाई होती है तो साथ में उसे विदा करने उसके भाई भी जाते हैं. सभी किशोर दुल्हन को ससुराल तक छोडऩे गए थे. इस घटना के बाद दुल्हन के घर और मायके में कोहराम मचा है. पुलिस शवों का पंचनामा भरने की कार्यवाही कर रही है.