हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और असंतुष्टों में से एक भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने गुरुवार को तुगलक लेन में राहुल गांधी से मुलाकात की। बैठक लगभग 40 मिनट तक चली और इसे पार्टी की ओर से जी-23 के सदस्यों तक पहुंचने के संकेत के रूप में देखा जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री, हरियाणा में एक लोकप्रिय नेता, जी-23 में प्रमुख व्यक्तियों में से एक हैं और बैठकों में नियमित रूप से उपस्थित लोगों में से एक रहे हैं, लेकिन कहा जाता है कि राहुल गांधी के साथ बैठक ग्रुप की शिकायत निवारण के लिए होगी और विशेष रूप से हुड्डा के लिए, जिन्हें हरियाणा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किए जाने की संभावना है। यह उनके समर्थकों की एक प्रमुख मांग है।

ये भी पढ़ेंः ICJ ने रूस को दिया तगड़ा झटका, सुनाया ऐसा आदेश, नहीं मानने पर होंगे गंभीर परिणाम


जी-23 की बुधवार को बैठक हुई और एक बयान जारी किया क्योंकि समूह चाहता है कि कांग्रेस संगठन को नया रूप दिया जाए और चुनाव प्रक्रिया में शामिल लोगों की जवाबदेही हो। इसमें कहा गया, हमारा मानना है कि कांग्रेस के लिए आगे बढऩे का एकमात्र तरीका सामूहिक और समावेशी नेतृत्व और सभी स्तरों पर निर्णय लेने का मॉडल अपनाना है, भाजपा का विरोध करने के लिए, कांग्रेस पार्टी को मजबूत करना आवश्यक है। हम मांग करते हैं कि कांग्रेस पार्टी 2024 में एक विश्वसनीय विकल्प का मार्ग प्रशस्त करने के लिए समान विचारधारा वाली ताकतों के साथ बातचीत शुरू करे। 

ये भी पढ़ेंः नवजोत सिंह सिद्धू ने अब खेली जबरदस्त पॉलिटिक्स, भगवंत मान के लिए कही ऐसी बात


कांग्रेस अध्यक्ष ने मंगलवार को पांच राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों को हटा दिया और इसके बाद समर्थकों ने असंतुष्टों को निशाना बनाना शुरू कर दिया, लेकिन बुधवार को सोनिया गांधी ने अजय माकन को पंजाब में चुनावी हार के कारणों का पता लगाने के लिए फिर से नियुक्त किया, जो असंतुष्टों और पंजाब के सांसदों की परेशानी का कारण थे, जिन्होंने माकन, सुनील जाखड़ और नवजोत सिंह सिद्धू के साथ बैठक के दौरान उनकी आलोचना की थी। रविवार को, कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने विधानसभा चुनाव के नतीजों पर चर्चा के लिए अपनी मैराथन बैठक के बाद अंतरिम पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी पर विश्वास जताया। उन्हें ‘आवश्यक और व्यापक’ संगठनात्मक परिवर्तन करने के लिए भी अधिकृत किया गया था। सीडब्ल्यूसी ने सर्वसम्मति से सोनिया गांधी के नेतृत्व में अपने विश्वास की पुष्टि की और कांग्रेस अध्यक्ष से आगे बढक़र नेतृत्व करने, संगठनात्मक कमजोरियों को दूर करने, राजनीतिक चुनौतियों का सामना करने के लिए आवश्यक और व्यापक संगठनात्मक परिवर्तनों को प्रभावित करने का अनुरोध किया।