छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel) ने शुक्रवार को रायपुर के इंडोर स्टेडियम में आयोजित छत्तीसगढ़ प्रदेश स्तरीय पंचायती राज (Panchayati Raj ) सम्मलेन में विकास निधि के साथ सरपंचों का मानदेय 2 हजार रुपए से बढ़ाकर 4 हजार रुपए करना का ऐलान किया.

 जिला पंचायत के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष (Panchayat President-Vice Presiden) को नई गाड़ी के लिए राशि भी स्वीकृति कर दी गई है. जिला पंचायत अध्यक्ष-उपाध्यक्ष, सदस्य और सरपंच के मानदेय में बढ़त्तरी हुई है. जिला पंचायत अध्यक्ष का मानदेय अब 25 हजार रूपए, उपाध्यक्ष का 15 हजार रूपए और सदस्य का मानेदय 10 हजार रूपए होगा. 

मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में कहा कि सरपंचों को अब 50 लाख रुपए की लागत तक के कार्य कराने का अधिकार होगा. नया संशोधित एसओआर जल्द लागू होगा.

मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ शासन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा संचालित राज्य बजट की योजनाओं के क्रियान्वयन में नोटशीट जिला पंचायत के मामले में जिला पंचायत अध्यक्ष तथा जनपद पंचायत से संबंधित मामलों में जनपद पंचायतों के अध्यक्षों के समक्ष अनुमोदन के लिए प्रस्तुत की जाएंगी. केन्द्र सरकार की योजनाओं के लिए यह प्रावधान लागू नहीं होगा.

सीएम बघेल ने जिला पंचायत अध्यक्ष एवं जनपद पंचायत अध्यक्ष के वित्तीय अधिकार के संबंध में कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा संचालित राज्य बजट की योजनाओं की राशि का भुगतान पूर्व संबंधित अध्यक्ष द्वारा नस्ती पर अनुमोदन के बाद मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत एवं वरिष्ठ लेखाधिकारी अथवा सहायक लेखाधिकारी के संयुक्त हस्ताक्षर से तथा जनपद के मामले मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत एवं सहायक लेखाधिकारी उसकी अनुपस्थिति में कलेक्टर द्वारा प्राधिकृत किसी अधिकारी के संयुक्त हस्ताक्षर से भुगतान किया जाएगा.

जिला पंचायत सदस्य को 15 लाख

भूपेश बघेल ने जिला तथा जनपद पंचायत पदाधिकारियों को निधि प्रदान करने के संबंध में घोषणा करते हुए कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए प्रतिवर्ष 15 लाख रुपए, जिला पंचायत उपाध्यक्ष के लिए 10 लाख रुपए तथा जिला पंचायत सदस्य के लिए 4 लाख रुपए, जनपद पंचायत अध्यक्ष के लिए 5 लाख रुपए, जनपद पंचायत उपाध्यक्ष के लिये 3 लाख रुपए तथा जनपद पंचायत सदस्य के लिए 2 लाख रुपए निधि प्रदाय की जाएगी. कुल 45 करोड़ रुपए के बजट प्रावधान को पुनर्विनियोजन के माध्यम किया जाएगा. जिला जनपद पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष को वाहन उपलब्ध कराने के संबंध में उन्होंने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष को वाहन उपलब्ध कराने के लिए 2 करोड़ रुपए प्रतिवर्ष व्यय की सहमति दी गई है. जनपद पंचायत अध्यक्ष को वाहन उपलब्ध कराने के लिए 6.13 करोड़ रुपए की अतिरिक्त व्यय की स्वीकृति दी जाएगी.

किसका कितना बढ़ा मानदेय़

- सरपंच 2 हजार से 4 हजार

- जिला पंचायत अध्यक्षों का मानदेय 15 हजार से 25 हजार

- जिला पंचायत उपाध्यक्ष का मानदेय 10 हजार से 15 हजार

- जिला पंचायत सदस्य का मानदेय 6 हजार से 10 हजार.