वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में शोरगुल के बीच सोमवार को केंद्रीय बजट 2021-22 लोकसभा में पेश किया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरू करते हुए जैसे ही सीतारमण को वित्त वर्ष 2021-22 का आम बजट पेश करने के लिए पुकारा तो सदन में शोर शराबा आरंभ हो गया।

इससे पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सोमवार को आम बजट 2021 -22 को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में संसद भवन परिसर में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित की गयी जिसमें वित्त वर्ष 2021-22 का अनुमोदन किया गया। सीतारमण ने केंद्रीय बजट मंत्रिमंडल के समक्ष रखा। इससे पहले उन्होंने वित्त वर्ष 2021-22 के आम बजट की एक डिजीटल प्रति राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सौंपी और राष्ट्रपति से आम बजट पेश करने की मंजूरी ली। 

बता दें कि मोदी सरकार ने कोरोना को देखते हुए स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए बजट में बढ़ोतरी की है और एक खास स्कीम भी चलाई है। मोदी सरकार ने बजट के जरिए आत्मनिर्भर स्वास्थ्य योजना का तोहफा देश के लोगों के दिया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार इस मद में अगले 6 सालों में करीब 61 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी। उन्होंने बताया कि इसके तहत प्राइमरी लेवल से लेकर उच्च स्तर तक की स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च किया जाएगा। नई बीमारियों पर भी फोकस होगा, जो नेशनल हेल्थ मिशन से अलग होगा।

जानिए बजट की प्रमुख बातें....

- पांच सौ शहरों में अपशिष्ट प्रबंध के लिए अमृत शहर योजना के तहत 2.87 लाख करोड़ रुपए।

-  प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वास्थ्य योजना के लिए 64,180 करोड़ रुपए।

-  गरीब कल्याण योजना और आत्मनिर्भर पेकैज के जरिए निर्धनतम लोगों तक संसाधन पहुंचाएं: सीतारमण

- मिशन पोषण 2.0 की घोषणा।

 - बजट में पश्चिम बंगाल के लिए 25000 करोड़ रुपए की लागत से 675 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण की घोषणा।

- सड़क परिवहन मंत्रालय के लिए 118101 करोड रुपए अतिरिक्त का प्रावधान।

- डीएफआई स्थापित करने के लिए विधेयक पेश होगा।

- तीन साल में सात टेक्सटाइल पार्क बनाये जाएंगे।

- वायु प्रदूषण की समस्या का समाधान होगा ।

- जल जीवन मिशन (शहरी) की होगी शुरुआत।