स्वदेशी कोवैक्सिन का फेज-3 ट्रायल्स शुरू हो गया है ​इसके बाद भारतीयों को जल्द से जल्द इस दवाई का डोज दिया जाएगा। भारत में कोरोना वायरस के एक्टिव केस तेजी से बढ़कर आठ लाख के करीब पहुंच चुके हैं। इसे देखते हुए भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में वैक्सीन का इंतजार बेसब्री से हो रहा है।
भारत के स्वदेशी कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सिन के फेज-3 ट्रायल्स शुरू हो गए हैं। फेज-1 ट्रायल्स के नतीजे बता रहे हैं कि इस वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है। ट्रायल्स के मुख्य जांचकर्ता डॉ. ई. वेंकटा राव ने कहा कि फेज-1 में यह देखने की कोशिश की जा रही थी कि वैक्सीन से पर्याप्त एंटीबॉडी शरीर में बनते हैं या नहीं।

पहला डोज देने के 14 दिन बाद दूसरा डोज दिया गया था। ब्लड सैम्पल भी लिया गया ताकि खून में एंटीबॉडी की पहचान की जा सकें। 28वें, 42वें, 104वें, 194वें दिन भी ब्लड सैम्पल लिया जाएगा।

भारत में इस समय अहमदाबाद के जायडस कैडिला के वैक्सीन ZyCOV-D के भी फेज-1/2 ट्रायल्स चल रहे हैं। वहीं, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोशील्ड कोविड-19 वैक्सीन के फेज-3 ट्रायल्स सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने शुरू कर दिए हैं।
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर ने अपने इंटरनल न्यूजलेटर ई-संवाद के संपादकीय में लिखा है कि कोविड-19 वैक्सीन सभी को कम से कम समय में उपलब्ध कराने को लेकर प्लान तैयार किया जा रहा है।

आईसीएमआर के इस इंटरनल न्यूजलेटर में भारत में बन रहे कोवैक्सिन के साथ-साथ जायडस कैडिला के वैक्सीन कैंडीडेट और ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका के कोवीशील्ड के बारे में विस्तार से समझाया गया है।