भारत बायोटेक ने मंगलवार को 13,000 स्वयंसेवकों की सफल भर्ती की घोषणा की और भारत में कई साइटों पर अपने कोरोनावायरस वैक्सीन कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के लिए 26,000 प्रतिभागियों के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में प्रगति जारी रखी। वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल नवंबर के मध्य में शुरू किया गया, पूरे भारत में 26,000 स्वयंसेवकों पर करने का लक्ष्य रखा गया है।

भारत बायोटेक की संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा एला ने इसे भारत में एक अभूतपूर्व वैक्सीन परीक्षण करार दिया। उन्होंने कहा कि वे भागीदारी में लगातार वृद्धि से अभिभूत हैं। सुचित्रा ने कहा, ‘‘हम देशभर के सभी 13,000 स्वयंसेवकों को कोविड-19 के लिए एक सुरक्षित और प्रभावकारी भारतीय वैक्सीन बाहर लाने में सक्षम बनाने में उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हैं। यह प्रो-वैक्सीन पब्लिक हेल्थ वॉलंटियरिज्म हमारे लिए हमारा लक्ष्य 26,000 जल्द हासिल करने के लिए मनोबल बढ़ाने वाला है।’’

भारत बायोटेक द्वारा भारत के स्वदेशी कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सीन को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) - नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) के सहयोग से विकसित किया गया है।