बेटे ने सिर्फ 1 यूरो में महल बेच दिया जिसके बाद पिता दूसरे देश के लॉज में रहने को मजबूर हो गए। हाल ही में जर्मनी में एक ऐसा वाकया हुआ है, जिसने सभी को हैरान कर दिया है। जर्मनी के हनोवर शहर के राजा अर्नस्ट ऑगस्ट की जिंदगी पूरी तरह से बदल गई है।

रोटी, कपड़ा और मकान की बेसिक जरूरतें पूरी करने के बाद इंसान अपनी जिंदगी के अन्य खर्चों पर फोकस करता है। सभी चाहते हैं कि उनका अपना घर हो, जहां वे चैन-सुकून से रह सकें। जर्मनी के राजा अर्नस्ट ऑगस्ट अपने महल में ऐशो-आराम की जिंदगी जी रहे थे। फिर साल 2000 में उन्होंने अपने पुश्तैनी महल, मैरीनबर्ग को अपने बेटे अर्नस्ट ऑगस्ट जूनियर को सौंप दिया।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, अर्नस्ट ऑगस्ट ब्रिटिश महारानी एलिजाबेथ के दूर के रिश्ते के भाई भी हैं।

अर्नस्ट ऑगस्ट के बेटे ने 135 कमरों का अरबों का महल सिर्फ 1 यूरो (Euro) यानी 87 रुपये में वहां की सरकार को बेच दिया है। बेटे की इस सनक के कारण पिता दूसरे देश में एक लॉज में किराये पर रहने को मजबूर है। अर्नस्ट ऑगस्ट ने सोचा था कि उनके बाद उनका बेटा इस महल की देख-रेख करेगा लेकिन हुआ बिल्कुल उल्टा। इस खबर ने अर्नस्ट ऑगस्ट को सकते में डाल दिया है और उन्होंने अपने ही बेटे पर केस कर दिया है।