तृणमूल कांग्रेस (TMC) के पूर्व राज्यसभा सांसद और लोकप्रिय अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती ने बीजेपी का दामन थामा लिया है। बीजेपी ने मिथुन को चुनावी टिकट नहीं दिया है लेकिन वह बीजेपी के लिए ममता के खिलाफ प्रचार करेंगे। मिथुन चक्रवर्ती 12 मार्च से चुनाव प्रचार शुरू करेंगे। बीजेपी ज्वॉइन करने के बाद मिथुन चक्रवर्ती ने TMC कार्यकाल को खराब निर्णय बताया है। उन्होंने कहा कि गरीबों की सेवा करने के लिए उन्होंने बीजेपी को चुना है।

कोलकता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिथुन चक्रवर्ती को बंगाल का बेटा ('बंगलार चेले') का करार दिया है। बीजेपी ममता के इस नारे को  काट दिया है कि  “बंगाल अपनी बेटी को चाहता है”। बीजेपी ने मिथुन चक्रवर्ती के लिए कहा कि “ बंगाल अपने लाल को चाहता है”। बता दे कि मिथुन चक्रवर्ती नंदीग्राम विधानसभा सीट से अपनी पहली रैली की शुरूआत करने जा रहे हैं। बता दें ममता नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ रही है। बंगाल में ममता का किला गिराने के लिए बंगाल के स्टार्स पर पेनी नजर बनाए हुए हैं।
बीजेपी की लोकप्रिय बंगाली चेहरों को अपने साथ जोड़ने की कोशिश में लगी है ताकी  बंगालियों के लुभा सकें। इसी के साथ बीजेपी ने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को पार्टी मे शामिल करने के लिए जी तोड़ कोशिश की लेकिन मुंह की खाई क्योंकि गांगुली ने साफ  कह दिया कि राजनीति में आने की उनकी इच्छा नहीं है। गांगुली को छोड़ अब बीजेपी ने बंगाली फिल्म इंडस्ट्री के ऑइकन प्रोसेनजीत चटर्जी को दल में शामिल करने में लगी हैं।