किशमिश का नाम सुनते ही हमारे जहन में नारंगी रंग की किशमिश आती है जिसे हरे अंगूर से बनाया जाता है। सेहते के लिए बेहद उपयोगी किशमिश सिर्फ नारंगी रंग की नहीं होती बल्कि काले रंग (black raisins) की भी होती है। काले रंग की किशमिश काले अंगूरों को सूखाकर बनाई जाती है। काली किशमिश के पोषक तत्वों की बात करें तो इसमें पोटेशियम, फाइबर, पॉलीफेनोल्स, प्रोटीन, एंटी ऑक्सीडेंट्स जैसे पोषक तत्व (benefits of black raisins) मौजूद होते हैं जो अच्छी सेहत के लिए बहुत उपयोगी हैं। यह किशमिश बहुत आराम से ड्राईफ्रूट्स की दुकान पर मिलती है जिसके दाम भी अधिक नहीं है। आइए जानते हैं कि काली किशमिश सेहत के लिए किस तरह फायदेमंद है।

काली किशमिश का सेवन इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग (immunity strong) करता है। इसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो इम्युनिटी बढ़ाने के लिए उपयोगी है। कोरोना काल में मजबूत इम्युनिटी के लिए काली किशमिश का सेवन करें। काली किशमिश में बोरोन मिनरल (Boron Mineral) भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो हड्डियों को मजबूत करता है। हड्डियां मजबूत रखने के लिए काली किशमिश का सेवन बेहद असरदार है।

शरीर में खून बढ़ाने के लिए भी काली किशमिश (black raisins) का सेवन किया जाता है। काली किशमिश में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो एनीमिया का उपचार करता है। जिन लोगों को कोलेस्ट्रॉल की समस्या रहती है वो काली किशमिश का सेवन करें। कोलेस्ट्रोल लेवल को कंट्रोल रखने के लिए काली किशमिश बेहद असरदार है। कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि काली किशमिश में ऐसे औषधीय गुण पाए जाते हैं जिनका सेवन करने से कोलेस्ट्रोल लेवल कंट्रोल रहता है। इसके सेवन से खून में मौजूद फैट को भी कम करने में मदद मिलती है।

काली किशमिश (black raisins) स्किन की समस्याओं का भी बेहतरीन उपचार करती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं जो स्किन में निखार लाते हैं। इसके सेवन से स्किन इंफेक्शन से भी बचाव किया जा सकता है। नियमित रूप से दूध के साथ काली किशमिश का सेवन स्किन में निखार लाता है।