जिन घोषणाओं को पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू (Punjab Congress chief Navjot Sidhu) लॉलीपॉप बताते रहे, अब खुद भी वैसा ही करने लगे हैं. भदौड़ रैली में सिद्धू ने महिलाओं पर दांव खेला. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार बनने पर हर गृहिणी को 2 हजार रुपए महीना मिलेंगे. इसके अलावा उन्हें साल में 8 गैस सिलेंडर मुफ्त मिलेंगे. हर सवा महीने बाद उन्हें मुफ्त गैस सिलेंडर मिलेगा.

इसके अलावा महिलाओं के नाम पर प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री पूरी तरह से मुफ्त होगी. इससे पहले आम आदमी पार्टी ने सरकार बनने पर हर महिला को एक-एक हजार रुपए देने की घोषणा की थी. सिद्धू इसे लॉलीपॉप और भीख बताकर कहते रहे कि आप झूठ बोल रही है, लेकिन मैं इस वादे को जरूर पूरा करूंगा. सिद्धू ने कहा कि पंजाब में माफिया की जेब से निकालकर वह ये वादा पूरा करेंगे.

इससे पहले नवजोत सिद्धू (Navjot singh Sidhu) ने आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल को कहा था कि पंजाब की महिलाओं को भिखारी न समझो. जो उन्हें एक-एक हजार रुपया दोगे. सिद्धू ने कहा था कि केजरीवाल यह पैसा कहां से लाएंगे. माफिया खत्म करने के बावजूद भी महिलाओं को देने के लिए करोड़ों रुपए नहीं मिलेंगे. हालांकि अब सिद्धू (Navjot singh Sidhu) भी उसी लाइन पर आ गए हैं.

केजरीवाल की मुफ्त घोषणाओं पर सिद्धू केजरीवाल को घेरते हुए कहते थे कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर 26 लाख नौकरी देंगे. इतनी नौकरियां देने के लिए 93 हजार करोड़ रुपए की जरूरत पड़ेगी. अगर पंजाब की 18 साल से अधिक उम्र की सभी महिलाओं को एक-एक हजार रुपए देने हों तो 12 हजार करोड़ रुपए की जरूरत होगी.

 बिजली मुफ्त देने के लिए 3600 करोड़ रुपए चाहिए. यह सब मिलकर 1.10 लाख करोड़ रुपए हो गया जबकि पंजाब का बजट ही 72 हजार करोड़ रुपए हैं. इनमें से 70 हजार करोड़ रुपए कर्मचारियों के वेतन-पेंशन और कर्ज चुकाने में चले जाते हैं. फिर केजरीवाल अपनी इन घोषणाओं को पूरा करने के लिए पैसा कहां से लाएगा. केजरीवाल हमेशा माफिया खत्म कर पैसे की बात कहते थे तो सिद्धू कहते थे कि उसमें से इतना पैसा नहीं आ सकता.