जनता को जल्द ही पेट्रोल डीजल के बढ़े कीमतों पर थोड़ा राहत मिलने वाला है।  प्रधानमंत्री ने राज्य सरकारों को कहा है कि वह अपने स्तर से लगाने वाले पेट्रोल डीजल के ऊपर टैक्स में कमी करें और रियायत जनता के जेब को दी जाए. वही दूसरा पहलू यह भी है कि अगर राज्य सरकार टैक्स में कटौती करती हैं और साथ ही साथ वैश्विक स्तर पर गिर रहे तेल की कीमतों का लाभ भी केंद्र स्तर से लोगों को मिल सकेगा.

यह भी पढ़े : भारत ने चीन की बड़ी चाल को किया नाकाम, विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर ने कर दिया इतना बड़ा काम


80 से ₹100 प्रति लीटर हो सकता है फिर से पेट्रोल

पिछले रिकॉर्ड स्तर से लगभग 12% वैश्विक तेल के आयात की कीमतों में कमी आई है साथ ही साथ अगर राज्य सरकार पेट्रोल डीजल पर लगने वाले टैक्स में कटौती करती है तो मौजूदा ₹100 से ₹120 बिक रहे प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत 80 से ₹100 के बीच में आसानी से पहुंच सकती हैं.

यह भी पढ़े : Shani Rashi Parivartan : आज शनिदेव अपनी स्वराशि में करेंगे गोचर, इन राशि वालों को मिलेगा शुभ समाचार, शुरू होंगे अच्छे दिन


पेट्रोल डीजल पर टैक्स में कटौती को लेकर राज्य सरकार और केंद्र सरकार में अभी पूर्ण सहमति नहीं है. राज्य सरकार का कहना है की केंद्र सरकार समय पर राज्य सरकार को उसके हिस्से का पैसा नहीं दे रही हैं और टैक्स में कटौती राज्य सरकार के करने के बजाय केंद्र को करना चाहिए क्योंकि केंद्र के पास टैक्स कटौती करने के लिए ज्यादा बफर है.

 यह भी पढ़े : चारा घोटाला : लालू यादव का रांची सीबीआई कोर्ट से रिहाई आदेश जारी, बिहार में गरमाई सियासत


कब तक हो सकता है रेट में बड़ा बदलाव.

विशेषज्ञों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने इस मामले में अगर हस्तक्षेप किया है तो उम्मीद की जा सकती है कि अगले 1 सप्ताह से 10 दिनों के भीतर कुछ बड़े फैसले टैक्स इत्यादि को लेकर किए जा सकते हैं या वैश्विक स्तर पर घटे तेल के दामों का लाभ जनता को देकर भी राहत पहुंचाया जा सकता है.