पंजाब में अगले साल होने वाले (Assembly elections next year in Punjab) विधानसभा चुनाव से पहले चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi ) की सरकार ने आम लोगों को दिवाली का तोहफा दिया है. दरअसल, पंजाब सरकार ने सोमवार को बिजली की (Punjab government has announced a reduction of three rupees per unit in electricity rates) दरों में प्रति यूनिट तीन रुपये की कटौती का एलान किया है. पंजाब कैबिनेट ने सभी स्लैबों में बिजली दरों में 3 रुपये की कटौती करने का फैसला किया है.

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Punjab Chief Minister Charanjit Singh Channi ) ने कहा कि छोटे उपभोक्ताओं के लिए 1.19 रुपये की नई दर होगी. नई दरें सोमवार से ही लागू हो जाएंगी. इस दौरान आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal of free electricity)  के मुफ्त बिजली के चुनावी वादे पर तंज कसते हुए चरणजीत चन्नी ने कहा कि उनकी सरकार के सर्वेक्षण से सामने आया कि लोग सस्ती बिजली चाहते थे, मुफ्त बिजली नहीं.

सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (CM Charanjit Singh Channi ) ने बताया कि पंजाब में 72 लाख उपभोक्ता है और इनमें से करीब 95 फीसदी उपभोक्ताओं को इस योजना से लाभ मिलेगा. मुख्यमंत्री ने दावा करते हुए कहा कि यह देश में सबसे कम बिजली की दरें होंगी. 

बताया जा रहा है कि कैबिनेट की बैठक के बाद चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार चुनावी मोड में नजर आई. इसी के मद्देनजर बिजली की दरों में कटौती के बाद पंजाब सरकार के कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते यानि डीए में 11 फीसदी की बढ़ोतरी की घोषणा की. इसके लिए 440 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे.

बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (CM Charanjit Singh Channi )  ने पंजाब के लोगों को वाजिब दरों पर निर्विघ्न बिजली आपूर्ति के लिए शनिवार को जीवीके गोइंदवाल साहिब बिजली खरीद समझौता रद्द करने के पंजाब स्टेट पावर कारपोरेशन लिमिटेड यानि पीएसपीसीएल के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी. साथ ही पावरकॉम ने कंपनी को टर्मिनेशन नोटिस भी जारी कर दिया था. उल्लेखनीय है कि पावरकॉम की ओर से बिजली समझौता रद्द करने के लिए जीवीके को शुरुआती तौर पर डिफाल्ट नोटिस जारी किया जा चुका है.