भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (Indian SARS-CoV-2 Genomics Consortium, INSACOG) ने चेतावनी जारी कि है कि देश में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रोन (omicron) कम्‍यूनिटी ट्रांसमिशन के चरण में है। विशेषज्ञों के अनुसार यह कई महानगरों में प्रभावी होने के बाद आने वाले कुछ हफ्तों में अब छोटे शहरों और गांवों में तीसरी लहर फैलेगी। हर बार कोरोना महामारी की लहर ऐसा ही प्रदर्शन करती है।

केरल के कोच्चि स्थित आइएमए में कोरोना टास्क फोर्स के सलाहकार डॉ. राजीव जयदेवन (Dr Rajeev Jayadevan) के अनुसार हर बार कोविड-19 की लहर पहले उच्च गतिशीलता वाले क्षेत्रों को प्रभावित करती है जिसमें मेट्रो शहर शामिल होते हैं। इसके बाद छोटे क्षेत्रों और गांवों का नंबर आता है। इस वजह से ओमि‍क्रोन की लहर अगले कुछ हफ्तों में छोटे शहरों या कस्बों और गांवों का रुख करेगी। ऐसा पूरी में दुनिया में देखा गया है।

डॉ. राजीव जयदेवन (Dr Rajeev Jayadevan) ने बताया कि पहली लहर वुहान वैरिएंट थी। दूसरी बीटा, तीसरी डेल्टा और चौथी ओमि‍क्रोन है। मार्च 2021 में हम मूल वुहान वैरिएंट से प्रभावित हुए थे। फिर पिछले साल हम डेल्टा की चपेट में आ गए। अब इस साल हम ओमि‍क्रोन की चपेट में आ गए हैं। पिछले आंकड़ों के आधार पर हम कह सकते हैं कि ओमि‍क्रोन थोड़ी देर प्रभावी रहेगा। इसके डेल्टा वैरिएंट की तरह लंबे समय तक प्रभावी रहने की संभावना नहीं है।

बता दें कि भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (Indian SARS-CoV-2 Genomics Consortium, INSACOG) ने अपने साप्ताहिक बुलेटिन में रविवार को कहा कि देश में कोरोना का ओमिक्रोन वैरिएंट सामुदायिक प्रसारण यानी कम्‍यूनिटी ट्रांसमिशन के चरण में है। यह कई महानगरों में प्रभावी हो गया है जहां संक्रमण के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।