बसंत अत्यंत शुभ माना गया है। पतझड़ के बाद बसंत ऋतु आती है। इस दौरान सर्द हवाओं के तेवर कमजोर पड़ने लगते हैं। साफ शब्दों में समझें तो बंसत ऋतु में ना तो ज्यादा सर्दी होती है और ना ही गर्मी। इसलिए बंसत को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। बता दें कि इस बार बसंत पंचमी (Basant Panchami 2022) 5 फरवरी यानी शनिवार के दिन मनाई जाएगी। इस दिन खासतौर पर मां सरस्वती की पूजा होती है। ऐसे में हम आपको बताएंगे कि इन दिन राशि के अनुसार ऐसा क्या काम करना चाहिए, जिससे मां सरस्वती प्रसन्न हो। 

मेष: इस दिन मेष राशि के जातकों को शिक्षा में सफलता के लिए सरस्वती कवच पाठ करना चाहिए।

वृष: सरस्वती पूजा के दिन मां शारदा को सफेद चंदन एवं सफेद पुष्प चढ़ाएं।

मिथुन:  मां सरस्वती (Maa Saraswati) की पूजा के दौरान चरणों में हरे रंग की कलम चढ़ाएं, फिर उसका प्रयोग करें। सफलता प्राप्त होगी।

कर्क: इस राशि के जातकों को चंद्रमा से जुड़ा खाद्य पदार्थ खीर का भोग मां सरस्वती को लगाना चाहिए।

सिंह: इस राशि के जातकों  को सरस्वती पूजा के दिन मां शारदा की विधिवत पूजा करनी चाहिए और गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए।

कन्या: कन्या राशि के जातकों को सरस्वती पूजा के बाद पुस्तकें, कलम, पेंसिल आदि का दान करना चाहिए।

तुला: इस दिन सरस्वती पूजा के बाद सफेद वस्त्र का दान करें। सफेद वस्त्र मां सरस्वती धारण करती हैं और शुक्र को भी सफेद वस्त्र प्रिय है। 

वृश्चिक: सरस्वती पूजा के दिन इस राशि के जातकों को मां शारदा के चरणों में कलम चढ़ाना चाहिए, जो लाल रंग का हो।

धनु: बसंत पंचमी (Basant Panchami) के दिन आपको मां सरस्वती को बेसन के लड्डू का भोग लगाना चाहिए।

मकर: मकर राशि (Capricorn) वालों को बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा करने के बाद चावल का दान किसी जरूरतमंद को करना चाहिए।