बाहरी दिल्ली के मंगोलपुरी में बाइक पर जा रहे एक 23 वर्षीय व्यक्ति की सुल्तानपुरी फ्लाईओवर पर प्रतिबंधित चीनी मांझे से गला काटने के बाद मौत हो गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी मांझे से गला काटने के चलते मौत की पुष्टि हुई है। घटना 14 अगस्त की है।

पुलिस के अनुसार, मृतक युवक की पहचान नजफगढ़ निवासी सौरव दहिया के रूप में हुई है। उसने अभी-अभी अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की थी और घटना के समय कन्हैया नगर में अपनी मौसी के घर जा रहा था।

हादसे के समय मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शी लोग सौरव को तुरंत पीतमपुरा के सरोज अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजकर जांच शुरू कर दी थी। पुलिस ने मंगलवार को कहा कि पोस्टमॉर्टम में उसकी मौत की पुष्टि गर्दन में चोट से अत्यधिक खून बहने के कारण हुई है। इस मामले में आगे की पूछताछ की जा रही है।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने जुलाई 2017 में एक अधिसूचना जारी कर चाइनीज मांझे की खरीद और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। उल्लंघन करने पर सजा और जुर्माने का प्रावधान किया गया था। इसके बावजूद राजधानी में चाइनीज मांझे की बिक्री धड़ल्ले से जारी है।

दिल्ली सरकार द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया था कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में चीनी मांझे के नाम से बिक रहे नाइलॉन, प्लास्टिक या किसी अन्य कृत्रिम पदार्थों से बने पतंग उड़ाने के धागों की बिक्री, उत्पादन, भंडारण, आपूर्ति और उपयोग सभी पर पूरा प्रतिबंध है। सरकार ने कहा था कि पतंगबाजी के शौकीन केवल ऐसे सूत के धागे का उपयोग कर सकते हैं, जिन्हें धातु, कांच, गोंद जैसे पदार्थ चढ़ाकर नहीं बनाया गया हो।