ED ने पश्चिम बंगाल में छापेमारी कर 6 बांगलादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है जो अवैध तरीके से भारत में छिप कर रह रहे थे। आरोपी प्रोशांता हलदर उर्फ पीके हलदर बांगलादेश में 10000 करोड़ रुपये का बैंक फ्रॉड का आरोपी है और भारत में फर्जी दस्तावेज बनवा कर छिपा हुआ था।

यह भी पढ़ें : असम सरकार का युवाओं को दिया शानदार तोहफा, 11 सरकारी विभागों में लगभग 23,000 जॉब्स का सौंपा नियुक्ति पत्र

आरोपी पीके हलदर ने पश्चिम बंगाल के पते पर फर्जी राशन कार्ड, वोटर कार्ड, पैन कार्ड, आधार कार्ड और पासपोर्ट तक बनवा रखा था। जांच एजेंसी को ये भी पता चला कि आरोपी ने भारत में भी इन फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भारत में कंपनियां भी खोल रखी थी जिसमें उसके साथ 5 और आरोपी स्वपन मैत्रा, उत्तम मैत्रा, इमाम हुसैन, आमना सुल्ताना और परनेश कुमार हलदर भी शामिल हैं।

ईडी की जांच में ये भी पता चला कि मुख्य आरोपी पीके हलदर के पास ना सिर्फ बांगलादेश और भारत का पासपोर्ट है बल्कि कैरेबियेन में Grenada देश का भी पासपोर्ट है और बांगलादेश में बैक फ्रॉड करने के बाद कई देशों में इन पैसों को छिपाया था।

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा में बिप्लब देब के अचानक इस्तीफे पर शुरू हुआ राजनीतिक घमासान, CPI (M) ने बताया 'अहंकार और तानाशाही रवैया'

बांग्लादेश में बैंक फ्रॉड करने के बाद पीके हलदर अपने साथियों के साथ फरार हो गया था जिसके बाद बांगलादेश पुलिस के कहने पर आरोपी के खिलाफ जनवरी 2021 में इंटरपोल ने रेड कार्नर नोटिस जारी किया था। बीच में खबरें भी आई थीं कि आरोपी कनाडा में छिपा हुआ है और वहां पर कंपनी भी खोल रखी है लेकिन अब भारत में आरोपी की गिरफ्तारी के बाद एजेंसी इस बात की भी जांच कर रही है कि आरोपी भारत में कैसे दाखिल हुआ और किन-किन लोगों ने फर्जी दस्तावेज बनवाने में आरोपियों की मदद की।