कोलकता। विश्व की सबसे मधुर भाषाओं में से एक बांग्ला भाषा का भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में बहुत बड़ा योगदान रहा है और देश के राष्ट्रीय गान और राष्ट्रीय गीत इसी भाषा में लिखे हुए हैं। 'आमी तोमाके भालोबासी' या 'तोमाके अमार भालो लागे' जैसे सामान्य वाक्य लगभग सभी लोगों ने सुना ही होगा। इसे सुनकर ऐसा लगता है कि जैसे रसगुल्ले से मीठी चाशनी टपक रही हो। कविता, संगीत और साहित्य, जो मूल रूप से बांग्ला भाषा में लिखे गए, आज भी पढऩे और सुनने में बहुत ही प्रभावी और सुंदर लगते हैं।


ये भी पढ़ेंः 15 वर्षीय लड़की ने अपने 37 वर्षीय प्रेमी के साथ मिलकर की मां-बाप की हत्या, बड़ी वजह आई सामने


इस भाषा को बोलना और समझना बहुत सरल है लेकिन साथ ही, इसके कुछ व्याकरण, शब्दावली और उच्चारण को समझना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। जटिलता और मिठास का मिश्रण ही इस इस भाषा को विशिष्ट बनाती है। बांग्ला भाषा के कुशल वक्ताओं के लिए अंग्रेजी सीखना ज्यादा कठिन नहीं है, विशेष रूप से डुओलिंगो की नई पाठ्यक्रम भाषा के माध्यम से, जो आपको अंग्रेजी में सक्षम बनाती है। जैसा कि वे कहते हैं, 'एकती भाषा जोथेश्तो नोय' (एक भाषा कभी पर्याप्त नहीं होती है)। अंग्रेजी को 'ग्लोबल लिंगुआ फ़्रैंका' कहा जाता है- एक ऐसी भाषा, जिसका उपयोग विश्व के एक-तिहाई से ज्यादा लोग करते है।

ये भी पढ़ेंः बडगाम में खूंखार आतंकी लतीफ राथर को इंडियन आर्मी ने घेरा, एनकाउंटर जारी, जानिए क्या है आरोप




इसलिए अंग्रेजी अवसरों का वैश्विक द्वार खोलती है। इसके अलावा, बंगाली और अंग्रेजी समान होते हुए भी बहुत अलग हैं। अंग्रेजी भाषा में कई भाषाओं से शब्द लिया गया है जिसमें एक बांग्ला भी है। 'बंगला' जिसका अर्थ छोटा घर होता है, बांग्ला भाषा से लिया गया है। 'जूट' बांग्ला से लिया गया एक अन्य शब्द है, जो बोरे में उपयोग होने वाला फाइबर के रूप में जाना जाता है। डिंगी- एक बड़ी नाव पर सवार एक छोटी नाव भी बांग्ला शब्द है। हिंदी और संस्कृत से विपरीत, बांग्ला में संज्ञा के लिए लिंग-तटस्थ सर्वनाम का उपयोग होता है, विशेष रूप से जब हम निर्जीव वस्तुओं की बात करते है। संबंधित क्रियाओं में भी कोई लिंग नहीं होता है। विशेषणों में भी बहुत कम परिवर्तन होता है। अंग्रेजी भाषा में भी यही तर्क और अवधारणा होती है।