नागालैंड सरकार ने 50 माइक्रोन से कम के एकल उपयोग वाली सभी प्लास्टिक, विशेष तौर पर प्लास्टिक बैग और स्टाइरोफोम एवं थर्मोकोल के डिस्पोजेबल प्लेट समेत सभी प्लास्टिक कटलरी पर शनिवार से प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है।


राज्य सरकार ने प्लास्टिक के कारण पर्यावरण को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए और गंभीर पारिस्थितिकीय चुनौतियों से निपटने के लिए प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है।


शहरी विकास विभाग की ओर से जारी एक अधिसूचना के मुताबिक सरकारी कार्यालयों को 20 लीटर से कम क्षमता वाली बोतलबंद पेयजल का इस्तेमाल बंद करना होगा। इसके अलावा सरकारी कर्मचारियों को दोबारा इस्तेमाल की जा सकने वाली बोतलों के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।


प्लास्टिक के थैलों और कटलरी के विकल्पों को भी बढ़ावा दिया जाएगा जिसमें कपड़ों, जूट, कागज, बांस और पत्तों से बने थैले और कटलरी शामिल हैं। अधिसूचना के मुताबिक कागज और कपड़े के थैलों, जैविक रूप से नष्ट होने वाली कटलरी का निर्माण करने वाली इकाइयां, पेयजल के एटीएम, प्लास्टिक को रिसाइकिल करने के लिए प्लास्टिक का चूरा बनाने वाली इकाइयां स्थापित करने वाले उद्यमियों को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।


इसके अलावा एक जनवरी 2020 से प्लास्टिक के स्ट्रॉ पर रोक लगाने के लिए भी आवश्यक कदम उठाये जाएंगे। इसके लिए जूस और कॉफी विक्रेताओं को एकल इस्तेमाल वाली स्ट्रॉ का विकल्प अपनाना होगा।