पाक में अलग बलूचिस्तान देश की मांग जोर पकड़ रही है। आजादी के लिए सक्रिय बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) ने दावा किया है कि उसने चीन की दूरसंचार कंपनी को आग के हवाले कर दिया है। साथ ही उसमें काम करने वाले छह मजदूरों का अपहरण कर लिया। 

इन मजदूरों की रिहाई संयुक्त राष्ट्र या रेड क्रास की गारंटी पर ही करने का एलान किया है। इन मजदूरों का अपहरण मारगोट चोखोबी बाध क्षेत्र से किया गया। गौरतलब है कि पाकिस्तान के बलूचिस्तान में आजाद बलूच आंदोलन चल रहा है। इनकी मांग है कि बलूचिस्तान अलग देश बनाया जाए। बलूचिस्तान में चीन ने दूरसंचार कंपनियों का जाल बिछाना शुरू कर दिया है। 

पाकिस्तान इसके सहयोग से बलूचों की जासूसी भी कर रहा है। इसके साथ ही ग्वादर बंदरगाह पर चीन का पूरी तरह अधिकार होने से भी बलूचों में आक्रोश है। इधर बलूचिस्तान मानवाधिकार परिषद और वायस आफ बलूच मिसिंग पर्सन के चेयरमैन नसरुल्लाह बलूच ने एक अलग बयान में अगवा मजदूरों को मानवीय आधार पर छोड़ने की मांग की है।