अयोध्या राम मंदिर को लेकर बड़ी खबर आई है। सरकार मकर संक्रांति के बाद राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट का गठन कर सकती है। हिंदू धर्म में मकर संक्रांति को शुभ काल शुरू होने का प्रतीक माना जाता है इसी वजह से इस दिन भी यह कार्य किया जा सकता है। यह ट्रस्ट मंदिर निर्माण की फंडिंग के लिए चंदा जुटाने का सार्वजनिक अभियान चला सकता है। इसके तहत प्रत्येक घर से 11 रुपये मांगे जाएंगे। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक एक स्वतंत्र ट्रस्ट बनाने के लिए सलाह-मशविरा की प्रक्रिया पूरी होने के कगार पर है। बताया गया है कि ट्रस्ट के सदस्यों में धार्मिक नेताओं के साथ केंद्र और यूपी सरकार के अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं। हालांकि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित दूसरे बीजेपी नेताओं के इसमें शामिल होने की उम्मीद नहीं है।

बताया गया है कि ट्रस्ट से जुड़े नोटिफिकेशन को मकर संक्रांति के अगले दिन यानी 15 जनवरी को जारी किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने ट्रस्ट बनाने के लिए तीन महीने का समय दिया था। ऐसे में हमारे पास 9 फरवरी तक का समय है। हिंदू धर्म में 'खरमास' की अवधि को अशुभ माना जाता है, जो 16 दिसंबर को शुरू हुआ था और 14 जनवरी को खत्म होगा।

मंदिर बनाने के लिए ट्रस्ट लोगों से चंदा इकट्ठा करेगा। इसके तहत हर घर से 11 रुपये चंदा मांगने के विकल्प पर विचार किया जा रहा है और बीजेपी के नेता इसके लिए लोगों से अपील कर सकते हैं। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही झारखंड चुनाव के दौरान लोगों से मंदिर के लिए 11 रुपये दान करने की सार्वजनिक अपील कर चुके हैं। अब यह मॉडल पूरे देशभर में अपनाया जा सकता है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360