इस समय यूक्रेन रूसी हमलों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। अब इस देश ने जंग में शामिल होने के लिए सैन्य पृष्ठभूमि वाले खूंखार कैदियों और आरोपियों को रिहा कर दिया है। नेशनल प्रॉसीक्यूटर जनरल के कार्यालय ने इस बात की पुष्टि की है।

यह भी पढ़ें- सिक्किम में बिना तेल के बनाया जाता है लजीज फग्शापा मीट, पूरी दुनिया में मशहूर है ये होटल

प्रॉसीक्यूटर जनरल ऑफिस के अधिकारी एंड्री सिनुक ने मीडिया को बताया कि दोषी के सर्विस रिकॉर्ड, युद्ध का अनुभव और जेल में उसके व्यवहार, इन सभी बातों पर विचार करने के बाद ही तय किया जाएगा कि उसे जंग में शामिल होने दिया जाए या नहीं।

एंड्री सिनुक कहा कि सर्गेई टॉर्बिन रिहा किए गए एक पूर्व लड़ाकू अनुभवी कैदियों में से एक है। टॉर्बिन पहले डोनेत्स्क और लुगंस्क पीपुल्स रिपब्लिक के साथ युद्ध में लड़ चुका है। नागरिक अधिकार कार्यकर्ता और भ्रष्टाचार विरोधी प्रचारक कतेरीना हांडज़ुक पर तेजाब फेंकने के बाद मौत के जुर्म में उन्हें 2018 में छह साल और छह महीने जेल की सजा सुनाई गई थी। सिनुक ने कहा कि टॉर्बिन ने अपनी रिहाई के बाद अपने दस्ते के लिए पूर्व कैदियों को चुना है।

यह भी पढ़ें- शाकाहारी और मांसाहारी दोनों की खास पसंद है गुंडरूक, स्वाद ऐसा है कि चखते ही दीवाने हो जाते हैं लोग

अधिकारी ने कहा कि एक अन्य पूर्व सैनिक दिमित्री बालाबुखा को 2018 में बस स्टॉप पर एक व्यक्ति की चाकू मारकर हत्या करने के लिए मामले में नौ साल जेल की सजा सुनाई गई थी, उसे भी रिहा कर दिया गया है।

यूक्रेनी सरकार आम नागरिकों को कीव में रूसी सेना के प्रवेश को रोकने के लिए लगातार हथियार उपलब्ध करवा रही है। वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने आदेश जारी किया है कि देश के जो भी नागरिक सेना में शामिल होने लायक हैं, वे देश छोड़कर नहीं जा सकते हैं। हालांकि यूक्रेन में बहुत से लोग स्वेच्छा से कीव और अन्य शहरों की रक्षा में मदद के लिए आगे आए हैं।

मॉस्को ने फिर से कहा कि उसने अपने पड़ोसी देशों डोनेत्स्क और लुगंस्क पीपुल्स रिपब्लिक के बचाव के लिए यूक्रेन पर हमला किया है। कीव में 2014 के तख्तापलट के तुरंत बाद दोनों देश पूर्वी यूक्रेन से अलग हो गए थे।