अयोध्या. राम नगरी अयोध्या में दंगा भड़काने की कोशिश की गई. कुछ शरारती तत्वों ने जालीदार टोपी लगाकर आपत्तिजनक पर्चे और मांस के टुकड़े धार्मिक स्थलों पर फेंके. हालांकि समय रहते पुलिस हरकत में आ गई और सात आरोपियों को पकड़ लिया गया. सभी आरोपी हिंदू हैं. दंगा भड़काने की साजिश का मास्टरमाइंड का नाम महेश कुमार मिश्रा है. उसने स्वीकार किया है कि वह और उसके साथी दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई हिंसा से नाराज थे.

यह भी पढ़े : ओरंग नेशनल पार्क और टाइगर रिजर्व में हाथी और जीप सफारी 1 मई से होगी बंद


मास्टरमाइंड चाहता था कि उसकी यह करतूत सीसीटीवी में कैद हो और पुलिस के हाथ भी आए. इसलिए आरोपियों ने दो ऐसी मस्जिदें चुनीं जहां सीसीटीवी लगे थे. एसएसपी शैलेश पांडेय ने बताया कि इस घटना में 11 लोग शामिल थे. मुख्य आरोपी ने अपने साथियों के साथ घटना को अंजाम दिया. फरार चल रहे 4 अन्य लोगों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

यह भी पढ़े : चारा घोटाला : लालू यादव का रांची सीबीआई कोर्ट से रिहाई आदेश जारी, बिहार में गरमाई सियासत


मुस्लिम धर्म गुरु की समझदारी से हुआ खुलासा

आरोपियों ने अयोध्या के मस्जिद कश्मीरी मोहल्ला, टाटशाह मस्जिद, घोसियाना रामनगर मस्जिद, ईदगाह सिविल लाइन मस्जिद और दरगाह जेल के पीछे मांस और आपत्तिजनक पोस्टर फेंके थे. कुछ जगह पर धार्मिक पुस्तक फेंककर सांप्रदायिक माहौल बिगाडऩे की कोशिश की. पुलिस ने जिस मुस्लिम धर्म गुरु से बयान लिए थे, उन्होंने रात 2 बजे चार बाइक पर 8 लोगों को देखा था. उस समय वे नमाज पढऩे जा रहे थे. उन्होंने सबसे पहले आपत्तिजनक पोस्टर देखे और पुलिस और एडमिनिस्ट्रेशन के अफसरों तक ये मामला पहुंचाया. 

यह भी पढ़े : Shani Rashi Parivartan : आज शनिदेव अपनी स्वराशि में करेंगे गोचर, इन राशि वालों को मिलेगा शुभ समाचार, शुरू होंगे अच्छे दिन


पुलिस पूछताछ में सामने आई कहानी कुछ ऐसी है कि मास्टरमाइंड महेश कुमार मिश्रा ने अपने साथियों के साथ बृजेश पांडेय के घर पर प्लानिंग की थी. महेश ने यह पर्चे लालबाग के आशीर्वाद फ्लैक्स से छपवाए थे. यहां से कुछ फ्लैक्स भी खरीदे. आरोपी प्रत्यूष श्रीवास्तव ने चौक की गुदड़ी रोड पर मो. रफीक बुक स्टोर से दो कुरान की किताब खरीदीं. पम्मी कैंप हाउस से टोपी खरीदी थीं. आकाश ने लालबाग से मांस खरीदा था. सामान को 26 अप्रैल की रात 10 बजे नाका वर्मा ढाबा पर एकत्र किया गया. फिर सभी बृजेश के घर आ गए. यहीं पर फ्लैक्स पर आपत्तिजनक टिप्पणियां लिखी गईं. इसके बाद सभी लोग चार बाइक पर देवकाली बाईपास होकर बेनीगंज तिराहा पहुंचे. 

यह भी पढ़े : राशिफल 29 अप्रैल 2022: शनि आज से करेंगे कुंभ राशि में प्रवेश, आज इन लोगे को व्यापार में होगा लाभ ही लाभ 


पीआरवी (पुलिस रिस्पॉन्स व्हीकल) की गाड़ी होने से यहां वारदात नहीं कर सके. फिर कश्मीरी मोहल्ला मस्जिद में जाकर कुरान शरीफ और मांस फेंका गया. इसके बाद राजकरन स्कूल के सामने से टाटशाह मस्जिद पर उन्होंने आपत्तिजनक पर्चे और मांस फेंक दिया. फिर जेल के पीछे गुलाब शाह दरगाह पर कुरान शरीफ एवं मांस फेंका. ईदगाह सिविल लाइन, घोसियाना रामनगर मस्जिद पर भी इसी तरह से आपत्तिजनक पर्चे फेंके गए. इस घटना के सभी आरोपी अयोध्या के हैं. महेश मिश्र के खिलाफ कुल 7 एफआईआर पहले से ही दर्ज है.