दिल्ली के मोती बाग इलाके में एक ऐसी खबर आई जो सबके रोंगटे खड़े कर देने वाली है। यहां पर कुल्हाड़ी के हमले से 11 वीं पढ़ने वाली 16 साल की लड़की की मौत हो गई। उसके पिता ने बताया है कि मेरी बेटी के पास कम-से-कम एक दर्जन ताइक्वांडो मेडल थे अगर उसके पीछा करने वाले ने उस पर पीछे से कुल्हाड़ी से हमला किया। अगर सामने से हमला करता तो वो अपना बचाव कर लेती। लड़की की मां ने कहा कि उसने हमला होते हुए देखा था लेकिन उसे नहीं पता था कि यह हमला उसकी बेटी पर किया जा रहा है।

दिल्ली के मोती बाग इलाके में एक सिरफिरे ने एकतरफा प्यार में 16 वर्षीय किशोरी पर सोमवार दोपहर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। आरोपी ने किशोरी पर दो वार किए, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

परिजनों ने पुलिस को बताया कि शास्त्री मार्ग के पास बनी झुग्गियों में रहने वाला 20 वर्षीय प्रदीप उर्फ प्रवीण सोमवार को किशोरी के घर पहुंचा और उस पर हमला कर दिया। आरोपी किशोरी से एकतरफा प्यार करता है और दोस्ती के लिए उस पर दवाब बना रहा था। जबकि, किशोरी इनकार कर रही थी। स्कूल बंद रहने के चलते किशोरी अक्सर पिता के साथ उनकी दुकान पर चली जाती थी। आरोपी दुकान पर आते-जाते किशोरी को रोककर उसके साथ छेड़छाड़ करता था और शादी करने के लिए कहता था।

वारदात के बाद आरोपी प्रदीप उर्फ प्रवीण को पलवल में अपनी बहन के घर जाकर छिपा था, जहां से साउथ कैंपस थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने बताया कि किशोरी से छेड़छाड़ और उसका पीछा करने पर उसके पिता ने उसे थप्पड़ मार दिया था। इसका बदला लेने के लिए ही उसने किशोरी पर कुल्हाड़ी से वार किया। पुलिस उपायुक्त इंगित प्रताप सिंह ने बताया कि सोमवार दोपहर मोती बाग की किशोरी पर आरोपी ने कुल्हाड़ी से वार किया था।

किशोरी के पिता ने बताया कि आरोपी कई माह से उनकी बेटी का पीछा कर रहा था। मना करने पर नहीं माना तो उन्होंने उसे थप्पड़ मार दिया था। इसका बदला लेने के लिए उसने उनकी बेटी को मार डाला। नाबालिग के पिता का कहना था कि अगर वह समय रहते पुलिस को बता देते तो शायद आरोपी पहले ही पकड़ा जाता और उनकी बेटी आज जिंदा होती।