बसंत पंचमी शनिवार यानी पांच फरवरी को मनाई जाएगी। इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है। बता दें कि इस दिन मां सरस्वती की पूजा से जुड़े कुछ खास उपाय करने से हमें बुद्धि और समृद्धि की प्राप्ति होती है, आइए जानते हैं क्या हैं ये खास उपाय (astro tips of basant panchami)।

- बसंत पंचमी (basant panchami) के दिन घर के छोटे बच्चों के हाथों से मां सरस्वती की पूजा करवानी चाहिए। इस दौरान मां सरस्वती के चरणों में गुलाल जरूर रखें और गुलाल से मां के चरणों की पूजा करें। हमारे देश के कुछ स्थानों पर बसंत पंचमी से ही होली खेलने की परंपरा का शुभारंभ हो जाता है।

- संगीत और कला जगत में रुचि रखने वाले लोगों को बसंत पचंमी के दिन अपनी कला का अभ्यास जरूर करना चाहिए। इससे देवी सरस्वती की कृपा प्राप्त होती है। सरस्वती देवी के मंत्र ओम ऐं ह्रीं क्लीं महासरस्वती देव्यै नम:, का कम से कम 108 बार जप करें। इसके साथ ही सरस्वती स्तोत्र का भी पाठ करें।

- बसंत पचंमी (basant panchami) के दिन भगवान श्रीकृष्ण और देवी राधा की पूजा भी जरूर करनी चाहिए। ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी से ही भगवान ने होली पर्व की शुरुआत की थी। इनकी पूजा से कामदेव और रति भी प्रसन्न होते हैं और गृहस्थी में प्रेम और मधुरता बनी रहती है। अगर पति-पत्नी के बीच अक्सर झगड़ा रहता है तो ऐसे दंपती को बसंत पंचमी के दिन रति और कामदेव की पूजा करनी चाहिए। आपको हर प्रकार से दांपत्य जीवन का सुख प्राप्त होगा।

- इस दिन मां सरस्‍वती (Saraswati) को मालपुआ और खीर में केसर मिलाकर भोग लगाएं। माना जाता है कि मां सरस्‍वती को बूंदी भी बेहद प्रिय हैं। इसलिए इस दिन पूजापाठ के उपरांत बूंदी का भोग भी लगा सकते हैं।