डिप्टी स्पीकर दिलीप कुमार पाॅल के इस्तीफे को विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी ने स्वीकार नहीं किया है। उन्होंने कहा कि इस बारे में राज्य के मुख्यमंत्री से बात करने के बाद ही कोर्इ फैसला लिया जाएगा। वहीं इस्तीफा सौंपने के बाद मंगलवार को पाॅल ने एक बयान में कहा कि उन्होंने किसी क्षोभ से इस्तीफा नहीं दिया है। बल्कि प्रोटोकाॅल भरी डिप्लोमेटिक जिंदगी रास न आने के कारण इस्तीफा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि विधायक होने के नाते क्षेत्रवासियों के विकास में ज्यादा ध्यान देना चाहता हूं।


बुधवार को असम विधानसभा स्थित अपने कार्यालय सभागार में विधानसभा अध्यक्ष गोस्वामी ने बताया कि उपाध्यक्ष पाॅल के साथ उनका कोर्इ मनमुटाव नहीं था। अगर उन्हें कहीं जाना होता था तो वे पाॅल से जाने का अनुरोध करते थे। नाथ ने कहा कि निरस कार्य से जुड़े रहना उनको रास नहीं आ रहा था। इस कारण से कर्इ बार उन्होंने पद छोड़ने का इच्छा जाहिर की थी। नाथ बताया कि पाॅल एक बहुत अच्छे व्यक्ति है। उनके क्षेत्र के लोगों की उम्मीदें उन पर टिकी हुर्इ है, लेकिन प्रोटोकाॅल के बीच वे घुटन सा महसूस कर रहे थे। 

नाथ ने यह भी बताया है कि पाॅल ने किसी राजनीतिक कारण से इस्तीफा नहीं दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने अभी पाॅल का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। इस बारे में मुख्यमंत्री से बात करने के बाद ही किसी फैसले को लिया जाएगा।