अगले लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल माने जा रहे पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की मतगणना मंगलवार सुबह से शुरू होगी और दोपहर बाद यह साफ हो जायेगा कि जनता भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में से किसके साथ है। मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में विधानसभा चुनावों की मतगणना कल सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू होगी।

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार है। तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति और मिजोरम में कांग्रेस सत्तारूढ़ है। राजस्थान और तेलंगाना में सबसे अंत में गत शुक्रवार को मतदान हुआ था जबकि तीन राज्यों में इससे पहले ही चुनाव करा लिये गये थे।


भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, वसुंधराराजे सिंधिया और डॉ रमण सिंह की प्रतिष्ठा दाव पर लगी है। तेलंगाना में के. चन्द्रशेखर राव कार्यवाहक मुख्यमंत्री हैं जबकि मिजोरम की बागडोर एल. ललथनहवला के हाथों में है। चुनाव संपन्न होने के बाद विभिन्न चैनलों एवं सर्वेक्षण एजेंसियों के एक्जिट पोल में कांग्रेस की राजस्थान में वापसी का अनुमान जताया गया है जबकि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का पलड़ा भारी प्रतीत हो रहा है लेकिन कांग्रेस इन दोनों राज्यों में भी टक्कर में बनी हुई है।


तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को स्पष्ट बहुमत मिलता प्रतीत हो रहा है जबकि मिजोरम में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं नजर आ रहा है। समाचार चैनल टाइम्स नाउ के सर्वे में राजस्थान विधानसभा की 199 सीटों में से कांग्रेस को 105 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जबकि भाजपा को 85 सीटें मिलने के आसार हैं।


न्यूज 24 के अनुसार राजस्थान में कांग्रेस को 110 से 120 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि भाजपा को 70 से 80 के बीच एवं अन्य पार्टियों को पांच से 15 के बीच सीटें मिल सकती हैं। जी न्यूज ने भी राजस्थान में कांग्रेस की जीत का अनुमान जताया है। इंडिया टुडे के एक्जिट पोल में 230 सदस्यीय मध्य प्रदेश विधानसभा में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस की भाजपा पर हल्की बढ़त के आसार व्यक्त किये गये हैं।


कांग्रेस को 104-122 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि भाजपा को 102-122 सीटें मिलने की उम्मीद है। दूसरी तरफ न्यूज 24 के सर्वेक्षण में कांग्रेस को 110 से 120 सीटों पर जबकि भाजपा को 98 से 108 सीटों पर आगे दिखाया गया है। टाइम्स नाउ ने भाजपा को 126 सीट दिलाकर मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान की चौथी बार सत्ता में वापसी के संकेत दिये हैं जबकि उसने कांग्रेस को 89 सीटें दी हैं। बसपा को छह और अन्य को नौ सीटें दी गयी हैं।