असम में पुष्करम मेले का भव्य आयोजन होने जा रहा है। इस बार यह मेला ब्रह्मपुत्र नदी किनारे लग रहा है जिसकी शुरू 5 नवंबर से होगी। यह मेला लगातार 12 दिन तक चलेगा और 16 नवंबर को खत्म होगा। इस बार मेले का आयोजन भव्य किया जा रहा है जिसके लिए राज्य सरकार सभी तैयारी जोर—शोर से कर रही है। बताया जा रहा है कि इस बार इस मेले में 50 हजार साधु—संत व 5 लाख श्रद्धालु आने की संभावना है। 

आपको बता दें कि देश में पुष्करम मेले का आयोजन हर वर्ष किया जाता है। लेकिन हर बार इसके आयोजन का स्थान अन्य कोई नदी का किनारा होता है। देश में इस मेले का आयोजन 12 नदियों के किनारों पर किया जाता है। अत: एक जगह पर आयोजित होने के बाद उस जगह की बारी 12 साल बाद आती है। इस बार पुष्करम मेले का आयोजन ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे किया जा रहा है जो कि गुवाहाटी के फैंसी बाजार के पास स्थित है।

असम सरकार की ओर आयोजित किए जाने वाले नमामी ब्रह्मपुत्र फेस्टिवल के बाद यह राज्य का दूसरा सबसे बड़ा फेस्टिल माना जा रहा है। इस आयोजन के लिए 60 करोड़ रूपये खर्च होने का अनुमान बताया गया है। माना जा रहा है कि इस मेले के आयोजन से राज्य सरकार को टूरिज्म को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। इस मेले के आयोजन की जिम्मेदारी असम के औद्योगिक एवं वाणिज्य विभाग की कमिश्नर व सेक्रेटरी एसएस ​मीनाक्षी सुंदरम को दी गई है।

पुष्करम मेले का आयोजन देश में गृहों की राशि—चक्र के आधार पर किया जाता है। इस साल इसका आयोजन बृहस्पती के चक्र के आधार पर किया जा रहा है। हालांकि अन्य नदियों पर होने वाले इस मेले का आयोजन अन्य राशि चक्रों के आधार पर भी किया जाता है।